फरवरी 06, 2018

टाटा स्टील तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स द्वारा एशिया स्टील इंटरनेशनल कांफ्रेंस 2018 का आयोजन किया गया

टाटा स्टील तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स द्वारा आयोजित इस 3-दिवसीय समारोह में स्टील तथा इससे संबद्ध क्षेत्रों पर भारतीय तथा अंतर्राष्ट्रीय वक्ता भाग ले रहे हैं

भुवनेश्वर: एशिया स्टील इंटरनेशनल कांफ्रेंस 2018, जिसका आयोजन टाटा स्टील तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स द्वारा किया जा रहा है, आज भुवनेश्वर में शुरु हुआ, इस तीन दिवसीय आयोजन का उद्घाटन ओड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक द्वारा किया गया।

आनंद सेन, प्रेसीडेंट, TQM तथा स्टील बिजनेस, टाटा स्टील, तथा अध्यक्ष, एशिया स्टील 2018, ने कहा, “हम इस सेक्टर से संबंधित जानकारियां साझा करने के लिए यहां आमंत्रित सभी प्रतिनिधियों का स्वागत करते हैं।”

डॉ. अरुणा शर्मा, सचिव, इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार; आर के शर्मा, मुख्य सचिव, इस्पात तथा खान, ओड़ीसा सरकार; तथा डॉ. बिश्वजीत बसु, प्रेसीडेंट, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स इस कांफ्रेंस के उद्घाटन सत्र में उपस्थित गणमान्य जनों में शामिल थे।

एशिया स्टील कांफ्रेंस दुनिया भर के स्टील विनिर्माताओं, शोधकर्ताओं, अकादमिक सदस्यों, उपकरण विनिर्माताओं तथा प्रौद्योगिकी आपूर्तिकर्ताओं को एक मंच पर लाता है जहां वे अपने नवाचारों को साझा कर सकते हैं।

स्टील उत्पादक देशों को एक स्थायी भविष्य सुनिश्चित करने के लिए समस्याओं तथा चुनौतियों का लगातार समाधान करते रहना होगा।

एशिया ने तत्परता से इस आयोजन को नियमित अंतराल पर आयोजित करने का उत्तरदायित्व लिया है।

यह दूसरी बार है जब एशिया स्टील इंटरनेशनल कांफ्रेंस का आयोजन भारत में, टाटा स्टील तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स के तत्वावधान में किया जा रहा है। भारत में पहली बार इस कांफ्रेंस के (द्वितीय संस्करण) का आयोजन 15 वर्ष पूर्व 2003 में जमशेदपुर में किया गया था।

यह बड़ा सम्मेलन हर तीसरे वर्ष आयोजित किया जाता है और यह विभिन्न देशों के लगभग 500 पेशेवरों को आकृष्ट करता है और उन्हें स्टील उद्योग के विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार साझा करने की सुविधा प्रदान करता है। अंतिम एशिया स्टील कांफ्रेंस का आयोजन 2015 में योकोहामा, जापान में किया गया था।

एशिया स्टील इंटरनेशनल कांफ्रेंस का आयोजन आयरन एंड स्टील इंस्टीट्यूट ऑफ जापान, चाइनीज सोसाइटी ऑफ मेटल्स, द कोरियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स एंड मेटेरियल्स तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेटल्स द्वारा हर तीन वर्ष पर किया जाता है। एशिया स्टील 2018 के दौरान कच्चे माल से लेकर स्टील उत्पाद तथा इसके उपयोगों से संबद्ध मुद्दे सम्मिलित किए जाएंगे।

इस कांफ्रेंस के दौरान 6 से 8 फरवरी, 2018 तक अनेक समानांतर सत्रों का आयोजन किया जाएगा। इसमें कुल मिलाकर 62 सत्र और भारत के साथ ही चीन, कोरिया, जापान, नेदरलैंडस, यूके, यूएस, जर्मनी, बेल्जियम तथा कनाडा से प्रमुख वक्ता होंगे, जो इस तीन दिवसीय सम्मेलन में अपने विचार साझा करेंगे।

डॉ. शर्मा तथा डॉ. हिडेकी मुराकामी, कार्यकारी अधिकारी, तथा प्रमुख, प्रॉसेस रिसर्च लेबोरेटरीज, निप्पॉन स्टील एंड सुमिटोमो मेटल कॉरपोरेशन, जापान, आज आयोजित पूर्ण सत्रों के प्रमुख वक्ता होंगे।

पर्यावरण, जल संरक्षण, कार्बन फुटप्रिंट जैसे मुद्दे इस तीन दिवसीय चर्चा के प्रमुख क्षेत्र होंगे।