नवम्बर 02, 2017

टाटा पावर सोलर को प्रतिष्ठित डन एंड ब्रैडस्ट्रीट- एवरेस्ट इंफ्रा अवार्ड्स 2017 मिला

भारत: टाटा पावर सोलर, भारत की सबसे बड़ी एकीकृत पावर कंपनी, ने डन& ब्रैडस्ट्रीट- एवरेस्ट इंफ्रा अवार्ड्स 2017 जीता है, जो इसे अनंतपुर, आंध्रप्रदेश स्थित NTPC के लिए घरेलू ऊर्जा आवश्यकताओं के तहत भारत की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा परियोजना चालू करनेके लिए अवसंरचना परियोजना पुरस्कार श्रेणी में प्रदान किया गया है। इस 100 MW परियोजना से लगभग 160 मिलियन यूनिट (kWh) बिजली प्रतिवर्ष उत्पादन की संभावना है जिससे प्रथम वर्ष में ही लगभग 110,000 टन कार्बनडाईऑक्साइड का उत्सर्जन कम होगा। 500 एकड़ से ज्यादा के विस्तृत परिसर में फैले हुए, तथा अपने उद्यम में विनिर्मित उच्चस्तरीय टायर-1 मॉड्यूल तथा सेल का उपयोग करते हुए, इस परियोजना को निर्धारित समयसीमा के लगभग 80 प्रतिशत समय में ही सख्त समयसारणी के अधीन तीन महीने पहले पूरा कर लिया गया है।

डन& ब्रैडस्ट्रीट– एवरेस्ट इंडस्ट्रीज लिमिटेड इंफ्रा अवार्ड्स 2017, अपने 7वें संस्करण में, विभिन्न श्रेणियों में भारत की अग्रणी अवसंरचना कंपनियों तथा परियोजनाओं को सम्मानित कर रहे हैं। नामांकनों का निर्णय एक स्वायत्त निर्णायक मंडल द्वारा, विभिन्न वित्तीय तथा गुणवत्ता मानदंडों पर तथा एक पूर्व निर्धारित परियोजना कार्यान्वयन मानक के अधीन किया गया। नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री, सड़क परिवहन उच्चपथ तथा जहाजरानी और जल संसाधन, नदी विकास, तथा गंगा पुनरोद्धार, भारत सरकार, की मुख्य अतिथि के रूप में इस आयोजन में गरिमामयी उपस्थिति रही।

इस सत्र में बोलते हुए, आशीष खन्ना, ED तथा CEO, टाटा पावर सोलर, ने कहा, इस पुरस्कार को प्राप्त करना हमारे लिए एक गौरवान्वित क्षण है। यह अवार्ड घरेलू विनिर्माण तथा EPC सेवाओं में हमारी उत्कृष्टता का प्रमाण है। यह 100मेगावाट का संयंत्र हमारे द्वारा बनाया गया अबतक का सबसे बड़ा DCR प्रॉजेक्ट है और इसका समयपूर्व कार्यान्वयन और साथ की कार्यनिष्पादन, उच्चस्तरीय विनिर्माण तथा परियोजना कार्यान्वयन क्षमताओं के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।”

इस संयंत्र को घने लहरदार क्षेत्र में स्थापित किया गया है, जो प्राकृतिक पर्यावरण को बनाए रखने के लिए अक्षुण्ण रखा गया है। यह क्षेत्र उच्च गति वाली हवाओं के कठिन ढलानों वाला है जिसमें मजबूत संरचना डिजाइन की जरूरत है। टाटा पावर सोलर ने बैलेंस-ऑफ-सिस्टम (BoS) तथा केबल के नवाचारी डिजाइन का उपयोग किया है, जिसके साथ अधिकतम अनुकूलित तकनीकी डिजाइन बनाने के लिए निकासी तंत्रों के आधुनिकतम डिजाइन का चयन किया गया है। विगत दो वर्षों से चालू इस परियोजना में, गुणवत्ता और परियोजना के टिकाऊपन से बिना कोई समझौता किए, प्रक्रियाओं (बाहरी तथा आंतरिक) को सुधारा गया है और विभिन्न स्तरों पर अधिमूल्य अभियांत्रिकी तथा विश्लेषण के द्वारा सस्ती लागत सुनिश्चित की गई है।

सरकार के “मेक इन इंडिया मिशन” की भावना के अनुरूप, यह सबसे बड़ी सौर ऊर्जा परियोजना शुरू की गई है, जो घरेलू निर्मित सोलर सेल तथा मॉड्यूल का उपयोग करते हुए बनाई गई है। टाटा पावर सोलर विश्वस्तरीय सुरक्षा प्रबंधन के लिए जाने जाते हैं, ने इस संयंत्र को 1.3 मिलियन सुरक्षित मानव कार्यघंटों के साथ पूरा किया है और इसमें भविष्य में संयंत्र के संचालन और रखरखाव कार्य में 50 से ज्यादा स्थानीय लोगों को रोजगार प्रदान किया जा रहा है।