फरवरी 12, 2018

टाटा पावर स्किल डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट द्वारा FY18 में 13,527 लोगों को प्रशिक्षण

राष्ट्रीय: भारत की सबसे बड़ी एकीकृत ऊर्जा कंपनी टाटा पावर ने भारतीय ऊर्जा क्षेत्र में कुशल श्रम के अंतराल को पाटने हेतु अथक प्रयास किए हैं। इसी प्रतिबद्धता के तहत टाटा पावर ने अपने कौशल विकास निकाय टाटा पावर स्किल डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट (TPSDI) के जरिए FY18 में 13,527 लोगों को सफलतापूर्वक प्रशिक्षित कर रोजगार पाने की उनकी क्षमता बढ़ाया।

अब तक, TPSDI ने 27,000 से अधिक व्यक्तियों को भारत भर में मॉड्यूलर ट्रेनिंग कोर्स के जरिए प्रशिक्षित किया है जिसे ऊर्जा एवं संबंधित क्षेत्र में बाजार उन्मुख होने के लिए तैयार किया गया है। इस साल TPSDI ने विभिन्न कौशल विकास कार्यक्रमों के तहत Y17 में 11,898 लोगों की तुलना में 13 प्रतिशत अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया।

TPSDI टाटा पावर का भारत सरकार द्वारा स्किल इंडिया के आह्वान के प्रति उनकी प्रतिबद्धता का प्रतीक है और इसके द्वारा टाटा पावर की सुविधाओं का लाभ उठाते हुए पांच स्थानों पर पांच प्रशिक्षण केंद्रों की स्थापना की गई है जिनमें शामिल हैं – मुंबई, महाराष्ट्र; ट्रॉम्बे – मुंबई, महाराष्ट्र; मैथन – धनबाद, झारखंड, मुंद्रा – कच्छ, गुजरात, और जोजोबेरा – जमशेदपुर, झारखंड।

TPSDI ने स्किल्स ऑन व्हील्स की शुरुआत की है जो लोगों के लिए कौशल प्रशिक्षण को अधिक स्वीकार्य बनाने के लिए निर्मित एक मोबाइल कॉन्सेप्ट है। इस ‘मोबाइल’ प्रशिक्षण और मूल्यांकन केंद्र के जरिए TPSDI द्वारा आस-पास के इलेक्ट्रीशियनों को रिकॉग्नीशन ऑफ प्रायर लर्निंग (RPL), ट्रेंनिंग और प्रत्यायन प्रदान किया जाएगा।

इस प्रयास पर बोलते हुए टाटा पावर के सीईओ और एमडी अनिल सरदाना ने कहा, ‘TPSDI की स्थापना कुशल युवाओं द्वारा राष्ट्र की सेवा तथा ऊर्जा सेक्टर में कौशल श्रम अंतराल को पाटने के उद्देश्य से की गई। उत्तम तरीके से पाठ्यक्रम प्रस्तुत करने वाली सर्वोत्तम प्रशिक्षण सुविधाओं तथा डिजायन के साथ TPSDI अपने उद्देश्य को सतत रूप से बखूबी पूरा कर रहा है। TPSDI की विशिष्ट प्रमाणन प्रणाली प्रशिक्षुओं और उद्योग के लिए बड़ा मूल्य संवर्धन साबित होगा। हमें इस बात की बड़ी खुशी हो रही है कि 13,527 लोगों को इस साल हमारे केंद्रों में प्रशिक्षित किया गया। हुनर हासिल कर ये छात्र अपने लिए बड़ा मूल्य प्राप्त करेंगे और साथ ही अपने कार्यस्थल पर अधिक उत्पादक योगदान दे पाएंगे।

विद्युतीय कौशल के अलावा TPSDI कौशल सृजन के अन्य पहलुओं पर भी ध्यान देते हैं जैसे कि गणितीय क्षमता, विज्ञान, बेसिक आईटी, उद्योग उन्मुख संचार, सॉफ्ट स्किल और व्यक्तित्व विकास, कार्य नैतिकता तथा साथ ही सेक्टर की खास जरूरतों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण पर भी विशेष बल दिया जाता है। इस प्रशिक्षण में ज्ञान तथा हैंड्स-ऑन कौशल दोनों शामिल होते हैं। यह संस्थान, अपने सकारात्मक कार्रवाई नीति के एक हिस्से के रूप में तथा गरीबी की रेखा के नीचे (बीपीएल) निवास करने वाले लोगों की श्रेणी में शामिल वंचित वर्गों के सदस्यों को अपने पाठ्यक्रमों तक अधिक पहुंच बनाने के लिए विशेष रूप से काम करता है।