सितम्बर 06, 2017

टाटा पावर ने घर-घर में जन जागृति अभियान के माध्यम से 40,000 लोगों को संवेदनशील बनाया

मुंबई: भारत की सबसे बड़ी एकीकृत पॉवर कंपनियों में से एक टाटा पॉवर, न केवल कार्यस्थल पर बल्कि समुदाय के लिए सुरक्षा पर जागरूकता के विस्तार पर अनथक रूप से काम करती रही है। इसी प्रतिबद्धता के अनुरूप टाटा पावर ने ओवरहेड बिजली की लाइनों के नीचे रहने वाले लोगों के बीच सुरक्षा जागरूकता निर्माण के लिए अपने घर-घर में जन जागृति अभियान को कार्यान्वित किया है। टाटा पावर ने इस सुरक्षा अभियान के माध्यम से 40,000 से अधिक लोगों को संवेदनशील बनाया है, इस तरह से मकर संक्रंति और गणेश उत्सव जैसे त्यौहारों के समय पर लगातार चौथे बरस शून्य लाइन ट्रिपिंग या मानव घात जैसी समस्याओं को सुनिश्चित किया है, जब हाई टेंशन केबिल या नंगे तारों के साथ लोगों के संपर्क में आने की घटनाएं अधिकतम हुआ करती थी।

इस विशिष्ट पहल के अंतर्गत, टाटा पावर कर्मचारियों ने उच्च वोल्टेज ट्रांसमिशन लाइनों के नीचे वाली विभिन्न लोकेशन पर जा कर समुदाय में सुरक्षा जागरूकता का निर्माण किया। इस गतिविधि के लिए, टाटा पावर ने एक एनजीओ को शामिल किया जो इस जन जागृति अभियान को आयोजित करने में शामिल रही है, जिसमें नुकक्ड़ नाटक तथा महिला समूह व युवाओं से संपर्क करना शामिल है। उपभोक्ता तथा समुदाय सुरक्षा के विस्तार में टाटा पावर के ये प्रयास उन त्यौहारों के दौरान और अधिक गहन हो जाते हैं जो असुरक्षित अभ्यासों जैसे ट्रांसमिशन लाइनों के नीचे पंतग उड़ाना, गणेश पंडालों में तारों को नंगा छोड़ना, बिजली के स्टेशनों के पास पटाखे फोड़ने के कारण लोगों के सजीव तारों के संपर्क में आने की संभावनाओं को बढ़ाते हैं।

इस पहल के बारे में बोलते हुए अशोक सेठी, सीओओ तथा ईडी टाटा पावर ने कहा, “टाटा पावर में हम अपने हितधारकों की सुरक्षा व कल्याण को सर्वोच्च महत्व देते हैं। हमें यह साझा करते हुए प्रसन्नता हो रही है कि जन जागृति अभियान के माध्यम से हमने पिछले चार वर्षों में पतंग उड़ाते समय और विभिन्न त्यौहारों पर एक भी जीवन नहीं खोया है। हमारा अभियान, जिसे जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली, हमें ट्रांसमिशन लाइनों से संबंधित सुरक्षा संदेशों को फैलाने के लिए इन जागरूकता मुहिमों को चलाते रहने के लिए प्रेरित करता है। हम उन सभी टाटा पावर कर्मचारियों व स्वयंसेवकों से शुक्रगुजार हैं जिन्होने इस प्रोग्राम को यथार्थ रूप समें सफल बनाया है।”

जन जागृति अभियान के माध्यम से टाटा पावर ने मानसून से पहले, गणपति उत्सव के दौरान विशेष जागरूकता प्रोग्राम आयोजित किए जिनका उद्देश्य उन बिजली संबंधी दुर्घटनाओं को कम करना था जो उच्च वोल्टेज ट्रांसमिशन लाइनों के पास के क्षेत्रों में अनाधिकृत रूप से रहने के कारण होती हैं। टाटा पावर के इन प्रयासों के कारण ट्रांसमिशन लाइनों के नीचे रहने लोगों के बीच सुरक्षा जागरूकता में काफी सुधार हुआ है।