दिसम्बर 04, 2017

टाटा पावर के मैथन पावर द्वारा झारखंड में मैथन के गांवों में झारखंड सरकार की स्वच्छता परियोजना में सहायता

धनबाद: भारत की सबसे बड़ी एकीकृत ऊर्जा कंपनी टाटा पावर ने हमेशा ही अपने परिचालन क्षेत्रों के आस-पास रहने वाले समुदायों के बेहतर स्वस्थ्य एवं कल्याण में वृद्धि के अग्रणी प्रयास किए हैं। इसी दर्शन को जारी रखते हुए टाटा पावर कम्युनिटी डेवलपमेंट ट्रस्ट (TPCDT) ने 17 दिसंबर 2017 तक 400 घरों में शौचालय निर्माण के झारखंड सरकार के संकल्प में सहायता देने का बीड़ा उठाया है। यह स्वच्छता परियोजना के धन सरकार द्वारा मुहैया कराया जाएगा, जबकि टाटा द्वारा इसके लिए मैथन के गांवों में स्वच्छता व स्वास्थ्य के बारे में प्रचार अभियानों एवं जागरुकता सत्रों की जिम्मेदारी उठाई जाएगी। आस-पास के 1500-2000 से अधिक लोग मैथन पावर (MPL) CSR टीम के दूरदर्शी सामाजिक पहल से लाभान्वित होंगे।

मैथन के गांवों में स्वच्छता पर जागरुकता अभियान

इस पहल का लक्ष्य है स्वच्छ एवं स्वास्थ्यपूर्ण शौच-सुविधा उपलब्ध कराना ताकि खुले में शौच की प्रथा बंद हो और स्वच्छ शौचालयों का प्रचलन हो। इस पहल के माध्यम से उपयुक्त शौचालयों के उपयोग से स्वस्थ स्वच्छता अभ्यासों को अपनाने का महत्व रेखांकित किया गया। अभी वर्तमान में 290 शौचालय यूनिट इस परियोजना के तहत निर्मित हो चुके हैं। इस सैनिटेशन प्रॉजेक्ट (शौचालय परियोजना) से धनबाद के निरसा ब्लॉक के 21 गांव लाभान्वित हुए हैं।

इस पहल पर बोलते हुए टाटा पावर के सीईओ, एमपीएल पुरुषोत्तम ठाकुर ने कहा,  ‘आस-पास के समुदाय को स्वच्छ एवं स्वास्थ्यपूर्ण पर्यावरण उपलब्ध कराना हमारा प्रयास रहा है। शौचालय यूनिटों का निर्माण तो महत्वपूर्ण है ही, साथ ही उतना ही महत्व इस बात का है कि ग्रामवासियों को इन शौचालयों के इस्तेमाल के बारे में बताया जाए और स्वच्छ शौच सुविधा के बारे में जागरुक किया जाए। हमें उम्मीद है कि इस प्रयास के जरिए हम अपने प्रॉजेक्ट क्षेत्रों के आस-पास रहने वाले लोगों के लिए स्वस्थ पर्यावरण मुहैया करने में सफल होंगे जो उनके स्वास्थ्य और कल्याण में वृद्धि करने में सहायक होगा। TPCDT राष्ट्रनिर्माण के लिए लाभकारी होने वाले सभी प्रयासों में सहयोग करते हैं और आगे भी सहायक साझेदार बने रहेंगे।’