नवम्बर 07, 2017

टाटा पावर ने गुजरात में 25 मेगावाट का सौर ऊर्जा संयंत्र शुरू किया

राष्ट्रीय: टाटा पावर रीन्यूएबल एनर्जी इंडिया (TPREL) भारत की सबसे बड़ी नवीकरणीय ऊर्जा कंपनी और टाटा पावर के पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी कंपनी ने आज, घोषणा की है कि कंपनी ने चरानका, गुजरात सोलर पार्क में अपने 25 मेगावाट के सौर ऊर्जा संयंत्र को चालू किया है। TPREL ने यह परियोजना नवंबर 2016 में भारत सरकार के राष्ट्रीय सोलर मिशन के अंतर्गत VGF मोड में प्राप्त की, और पावर पर्चेज एग्रीमेंट (PPA) की समयसीमा दिसंबर 2017 से पहले ही इसे शुरू कर दिया गया। इस प्रगति के साथ ही, TPREL की कुल स्थापित संचालन क्षमता बढ़कर अब 1,484 मेगावाट तक पहुंच गई है।

यह सौर ऊर्जा संयंत्र 113 एकड़ से ज्यादा भूमि पर बनाया गया है और इस संयंत्र की बिजली की बिक्री के लिए SECI से एक 25 वर्षीय PPA के तहत रु. 4.43/ प्रति यूनिट की दर से करार किया गया है।

राहुल शाह, सीईओ, टीपीआरईएल ने कहा, “हमारा लक्ष्य टिकाऊ प्रगति पथ के माध्यम से टीपीआरईएल में केन्द्रित नवीकरणीय ऊर्जा व्यवसाय का निर्माण करना है। गुजरात में इस 25 मेगावाट के सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना स्वच्छ तथा नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादन के हमारे पोर्टफोलियो में वृद्धि के अभियान में एक मील का पत्थर है। हम इस परियोजना की प्रगति के दौरान उनके समर्थन और सहयोग के लिए गुजरात सरकार तथा नोडल एजेंसियों के प्रति कृतज्ञ हैं। हमेशा, हम पवन तथा सौर ऊर्जा संयंत्रों के संचालन के अवसरों की खोज करते रहते हैं, जो हमारे उत्पादन पोर्टफोलियो में वृद्धि के लिए हमारे अपने मौलिक ऊर्जा संवृद्धि कार्यक्रमों के अतिरिक्त है।”

टाटा पावर का दृष्टिकोण है कि कंपनी के कुल उत्पादन में 2025 तक गैर-जीवाश्म ईंधनों से प्राप्त ऊर्जा का हिस्सा 35-40 प्रतिशत तक होना चाहिए। टाटा पावर की नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता इस वर्ष 2,000 मेगावाट की सीमा को पार कर गई, और हरित ऊर्जा उत्पादन पोर्टफोलियो 3,000 मेगावाट से अधिक हो गया है।