दिसम्बर 13, 2017

टाटा स्टील यंग ऐस्ट्रॉनॉमर टैलेंट सर्च के 11वें संस्करण में नवोदित खगोलशास्त्री को सम्मानित किया गया

विजेताओं को ISRO के एक प्रमुख प्रतिष्ठान के दौरे का अवसर मिलेगा

भुवनेश्वर: उड़ीसा के मुख्यमंत्री श्री नवीन पटनायक ने आज यंग ऐस्ट्रॉनॉमर टैलेंट सर्च (YATS) प्रोग्राम 2017-18 के 11वें संस्करण के 20 विजेताओं को पठानी सामंत प्लैनेटेरियम, भुवनेश्वर में आयोजित एक भव्य समारोह में सम्मानित किया। विजेताओं को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के एक प्रमुख प्रतिष्ठान की अनुभव यात्रा करने का एक ख़ास मौका भी मिलेगा।

उड़ीसा के मुख्यमंत्री श्री नवीन पटनायक, अन्य पदाधिकारियों तथा पुरस्कार विजेताओं के साथ शिरकत करते हुए

इस अवसर में मौजूद व्यक्तियों में शामिल थे- मदरी नारायण पात्रा, मंत्री, स्कूल तथा मास एजुकेशन, विज्ञान व प्रौद्योगिकी, उड़ीसा सरकार; डॉ. प्रसन्ना कुमार पतासनी, एमपी, भुवनेश्वर; निकुंज बिहारी धाल, कमिशनर-सह-सचिव, विज्ञान तथा प्रौद्योगिगी विभाग; टीवी नरेंद्रन, सीईओ तथा प्रबंध निदेशक, टाटा निदेशक; अरुण मिश्रा, वाइस प्रेसिडेंट प्रॉजेक्ट गोपालपुर, टाटा स्टील तथा प्रबंध निदेशक, टाटा स्टील SEZ; चाणक्य चौधरी, ग्रुप डाइरेक्टर, कॉरपोरेट कम्युनिकेशन तथा रेगुलेटरी अफेयर्स, टाटा स्टील।

टाटा स्टील तथा पठानी सामंत प्लैनेटेरियम द्वारा ऐसे अनोखे कार्यक्रम के आयोजन के प्रयास की तारीफ करते हुए, श्री पटनायक ने आशा जताई कि YATS लगातार रूप से एक ऐसा प्लैटफॉर्म बनता जा रहा है, जो छात्रों की पहचान, उनकी शिक्षा-दीक्षा देने तथा उनकी प्रतिभा की पहचान करने और उड़ीसा राज्य में विद्वानों का एक समुदाय बनाने के लिए प्रयास करता है, जो राज्य के विकास में योगदान देते हैं।

श्री पात्रा ने कहा, "हम चाहते हैं कि लीडरशिप की विभिन्न भूमिकाओं में हमारे राज्य के अधिक से अधिक युवक भाग ले सके। इस दिशा में, यह इस बात पर जोर डालता है कि उन्हें विज्ञान, स्पोर्ट तथा सहायक शिक्षा विषयों समेत विभिन्न क्षेत्रों में सही मार्गदर्शन प्रदान किया जाए और YATS उ‌ड़ीसा के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के लिए लॉन्च पैड हो सकता है।"

प्रतिभागियों तथा विजेताओं को बधाई देते हुए, श्री नरेंद्रन ने कहा, "उड़ीसा के स्कूल तथा कॉलेजों के छात्रों को जोड़ने के लिए हमारे पास कई कार्यक्रम मौजूद हैं जो उन्हें उनके विचार, आइडियाज तथा ज्ञान साझा करने के लाभ हासिल करने के लिए मंच प्रदान करते हैं।”  श्री पटनायक ने उड़ीसा के युवा अचीवर डॉ. सुष्मिता मोहंती, सह-संस्थापक तथा सीईओ, Earth2Orbit, को भी सम्मानित किया, जो एक स्पेसशिप डिजाइनर तथा वैश्विक मंच की एक सीरियल स्पेस उद्यमी हैं। इस अवसर पर डॉ. मोहंती का YATS के फायनलिस्टों तथा अन्य स्कूली छात्रों के साथ एक अत्यंत रोचक तथा प्रेरणात्मक सत्र रहा, जहाँ उन्होंने अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में अपनी यात्रा पर रोचक जानकारी साझा की। उन्होंने अंतरिक्ष विज्ञान जैसे क्षेत्रों में गैर-पारंपरिक करियर विकल्पों को अपनाने के लिए कुछ व्यावहारिक सुझाव भी साझा किए।

राज्य में 20 सर्वोत्तम युवा प्रतिभाओं की तलाश करने के लिए चार महीने के प्रयास के बाद YATS का आज समापन हो गया। इस 11वें सत्र में उड़ीसा के 30 जिलों में फैले 300 स्कूलों के 32,000 से अधिक छात्रों ने भाग लिया। इस वर्ष की प्रतियोगिता का थीम था "अंतरिक्ष विज्ञान में भारत की उपलब्धियों का महोत्सव", जिसमें भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के विभिन्न आयामों पर विषय आधारित लेखन तथा क्विज प्रतियोगिता भी शामिल थे। YATS का आयोजन वर्ष 2007 से पठानी सामंत प्लैनेटेरियम के सहयोग से टाटा स्टील द्वारा किया जा रहा है, जिसके तहत उड़ीसा के लब्ध प्रतिष्ठित खगोलशास्त्री पठानी सामंत के अहम योगदान को सम्मानित किया जाता है और युवाओं को वैज्ञानिक नवाचारतथा अंतरिक्ष विज्ञान व खगोलशास्त्री के विभिन्न विषयों से जुड़ी संकल्पनाओं में उनकी प्रतिभाओं को प्रदर्शित करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

इस अवसर पर, भारतीय नाभिकीय ऊर्जा निगम लिमिटेड (NPCIL) ने पठानी सामंत प्लैनेटेरियम, भुवनेश्वर के परिसर में दो-दिवसीय एक सूचनात्मक प्रदर्शनी का आयोजन किया। यह प्रदर्शनी दिसम्बर 13 तथा 14 दिसम्बर 2017 को 10 am से 5 pm में खुली रहेगी। इस अवसर पर रीजनल साइंस सेंटर, भुवनेश्वर ने भी एक प्रदर्शनी का आयोजन किया।