दिसम्बर 29, 2014

टाटा पावर की क्लब एनर्जी ने ‘एनर्जी क्यू’ के 2015 का संस्करण, शहरी स्तर पर विजेताओं के नाम की घोषणा के साथ जारी किया

ये शहरी विजेताएं 16 जनवरी, 2015 को आयोजित होने वाले ग्रांड फिनाले में खेलेंगे
छः शहरों की 187 से भी अधिक शालाओं के 561 से ज़्यादा छात्र इसमें हिस्सा लेंगे

राष्ट्रीय: क्लब एनर्जी, जो कि टाटा पॉवर का राष्ट्र व्यापी ऊर्जा संरक्षण कार्यक्रम है- ने आज अपने राष्ट्रीय क्विज़ क्यू 2015 के लिए शहरी विजेताओं के नाम घोषित किए। एनर्जी क्यू एक वार्षिक आयोजन है जिसके माध्यम से क्लब, ऊर्जा और संसाधनों का संरक्षण करने के संदेश आनंददायक और प्रवृत्त रखने वाले तौरतरीकों से प्रसारित कर सकता है। शहरी स्तर के क्विज़ में 5 राज्यों से सत्ताइस विजेताओं को चुना गया है।

बैंगलूरू, दिल्ली, कोलकाता, पुणे तथा अहमदाबाद से कुल 62 शालाओं के 7वीं और 8वीं कक्षा में पढ़ाई करने वाले 186 छात्रों ने इसमें हिस्सा लिया। मुंबई में 13 जनवरी को शहरों के निर्णायक क्विज़ के बाद 6 शहरों के विजेता, 16 जनवरी, 2015 को खेले जाने वाले राष्ट्रीय क्विज़&कार्निवल में आगे खेलेंगे। शहरों के निर्णायक क्विज़ के दौरान, छात्रोंने ऊर्जा संरक्षण, विज्ञान और सामान्य ज्ञान संबंधित अपने ज्ञान से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया था। इस क्विज़ में हिस्सा लेने वाली शालाओं के आचार्यों, शिक्षकों तथा ऊर्जा मार्गदर्शकों ने भी क्लब एनर्जी के साथ अपने लंबे अरसे से जुड़ाव के कारण हुए अनुभवों को साझा किया।

इस पहल के बारे में बात करते हुए, अनिल सरदाना, प्रबंध निदेशक, टाटा पॉवर-ने कहा, “क्लब एनर्जी की एनर्जी-क्यू, भारत भर की टीमों को एक साथ लाती है और उन्हें ऊर्जा संरक्षण तथा संसाधन संरक्षण के क्षेत्र में अपने उत्साह को प्रदर्शित करने का एक मंच उपलब्ध करवाती है। बच्चे किस उत्साह के साथ इस प्रतियोगिता बच्चों को इतने उत्साह से इस क्विज़ में हिस्सा लेते हुए देख कर, तथा ऊर्जा संरक्षण और पर्यावरण जतन संबंधित बातों के बारे में उनका जो ज्ञान है वो देख कर, सचमुच में बड़ी खुशी होती है। हम सभी विजेताओं का अभिनंदन करना चाहेंगे और शालाओं का भी धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने इस प्रतियोगिता को पूरा सहयोग दिया और पूरे मन से इसमें हिस्सा लिया।”

क्लब एनर्जी प्रोग्राम ने भारत में लगभग 400 पाठशालाओं से संवाद किया है और 7 मिलियन से अधिक नागरिकों को जागरूक बनाते हुए आज तक 11.2 मिलियन बिजली युनिट की बचत करने में सहायक हुआ है। यह लगभग 11,200 टन कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) की बचत के बराबर है और यह लगभग 5,200 घरों को एक वर्ष तक प्रकाशित करने के लिए पर्याप्त है। इस क्लब में 1,150 आत्म-निर्भर मिनी क्लब भी हैं जिन्होंने कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय सम्मान प्राप्त किए हैं।