अगस्त 03, 2016

टाइटन ने पहली तिमाही के राजस्व में 3.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की

टाइटन कंपनी के लिए पहली तिमाही में बिक्री से आय 3.6 प्रतिशत बढ़ गयी। पहली तिमाही में रिटेल बिक्री कम विवाह तिथियों के कारण बुरी तरह प्रभावित रही और सोने की उच्च कीमतों के कारण ज्वेलरी उद्योग में राजस्व पर काफी प्रभाव रहा। पहली तिमाही में बिक्री आय पिछले वर्ष के रु2,686.76 करोड़ से बढ़ कर रु.2,782.50 करोड़ हो गयी। इस तिमाही में एक अपवाद मद अपने कर्मचारियों के लिए स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना की घोषणा के कारण इसी अवधि के लिए, इस वर्ष कर पश्चात लाभ 16.3 प्रतिशत घट कर रु.126.69 करोड़ हो गया। कंपनी ने इस अपवाद मद के लिए रु.96.88 करोड़ के व्यय को रिपोर्ट किया है तथा पूरी राशि को इस तिमाही में लेखांकित किया गया है। असाधारण मद से पहले पहली तिमाही में कंपनी का पीबीटी रु.270.64 करोड़ रहा जो कि इसी अवधि में पिछले वर्ष रु.204.41 करोड़ था जिससे तिमाही के लिए 32.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई।

पहली तिमाही में घड़ियों के व्यवसाय में 1.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी। घड़ियों के व्यापार से आय रु.485.17 करोड़ से बढ़ कर रु.491.72 करोड़ हो गयी। पहली तिमाही में ज्वेलरी से आय रु.2072.91 करोड़ के सापेक्ष रु.2138.32 करोड़ रही, जो कि 3.2 प्रतिशत की वृद्धि है। कंपनी के चश्मों का व्यापार पिछले वर्ष की पहली तिमाही में रु.106.93 करोड़ था जो इस तिमाही में 2.7 प्रतिशत बढ़ कर रु.109.87 करोड़ हो गया। कंपनी के दूसरे व्यवसायों में परिशुद्धता इंजीनियरिंग शामिल है जिसमें इस वर्ष 36.2 प्रतिशत की प्रभावशाली वृद्धि के साथ रु.63.92 करोड़ का व्यवसाय हुआ।

आने वाली तिमाहियों में कंपनी ने अपने सभी उत्पादों की मांग में वृद्धि करने के लिए अभिनव विज्ञापन अभियानों तथा नये उत्पादों की योजनाएं गढ़ी हैं।

पहली तिमाही में सभी व्यवसायों में कुल 11 स्टोरों के जुड़ने के साथ रिटेल विस्तार जारी रहा, जिसके साथ अवधि के समाप्त होने पर राष्ट्रीय रूप से 1.73 मिलियन वर्ग फीट के रिटेल क्षेत्रफल का जुड़ाव हुआ। 30 जून 2016 को कंपनी की मजबूत रिटेल श्रंखला में अब 1,293 स्टोर शामिल हैं और सभी रिटेल व्यापारों घड़ियों, ज्वेलरी तथा चश्मों के लिए वृद्धि नियोजन के – साथ बढ़ रही है।

कैरेटलेन प्राइवेट ट्रेडिंग लिमिटेड (सीटीपीएल) के लेखांकन तथा कानूनी औपचारिकताओं के संतोषजनक रूप से पूरा होने के बाद, कंपनी ने सीटीपीएल में लगभग 62 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण करने के लिए रु357 करोड़ का भुगतान किया।

कंपनी के प्रबंध निदेशक भास्कर भट ने कहा, “लाभ की दृष्टि से इस वर्ष की पहली तिमाही कंपनी के लिए अच्छी रही है, हालांकि अंतिम आंकड़े एक अपवाद मद के कारण प्रभावित रहे हैं जिसका लाभ आने वाले वर्षों में होगा। वृद्धि शांत हो गयी है और इस कैलेंडर वर्ष के पहले आधे हिस्से के दौरान सोने के आयात में 50 प्रतिशत कमी दर्ज होने के बावजूद भी हमारा ज्वेलरी व्यापार बढ़ा है।"