अक्तूबर 12, 2017

टाइटन की अनुषंगी फेवरे-ल्यूबा के रेडर बाइवोक 9000 ने भारत में कदम रखे हैं

मुंबई, भारत: फेवरेल्यूबा ने अपने आइकॉनिक टाइमपीस – द रेडर बाइवोक 9000– का अनावरण मुंबई के ट्राइडेंट होटल, BKC में किया, घड़ी डिजाइन तथा अभियंत्रण के नए मानक स्थापित करते हुए, फेवरे-ल्यूबा की परंपरा को एक नए अवतार में वापस उतारा गया है, तथा कामकाजी टाइमपीस के साथ सर्वोच्च शिखरों पर विजय हासिल की गई है, जिसने सचमुच सीमाओं को तोड़ दिया है। 

स्विट्जरलैंड का दूसरा सबसे पुराना घड़ी ब्रांड इस नवीनतम घड़ी के साथ अपनी 280 वर्षगांठ मना रहा है, जिसमें ब्रांड की उत्कृष्टता अभिव्यक्त होती है, तथा तकनीकी रूप से असंभव समझी गई यांत्रिक कुशलता को पुनर्परिभाषित किया गया है, द रेडर बाइवोक 9000 सचमुच सभी ऊंचाइयों के लिए एक अनिवार्य उपकरण है।

थॉमस मोर्फ, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, फेवरे-ल्यूबा; पैट्रिक करे, प्रमुख तकनीकी अधिकारी, फेवरे-ल्यूबा के साथ फेवरे-ल्यूबा टीम तथा एथॉस से यशोवर्धन साबू इस शानदार टाइम पीस के भारत में अनावरण के अवसर पर मौजूद थे। श्री मोर्फ ने दर्शकों को द रेडर बाइवोक (Raider Bivouac) 9000 को विशिष्ट सम्मान देते हुए आकर्षित किया, इसे उपकरणों का उपयोग कर कृत्रिम रूप से 9000मी तक उठाया गया और इस प्रयास के लिए खासतौर पर उपकरणों का निर्माण किया गया। इस प्रदर्शन ने इस सोद्देश्य-निर्मित घड़ी द्वारा प्रदर्शित वास्तविक रूप से अनूठी करामात को साबित कर दिया है, जो इसने अपने लिए उपयुक्त आदर्श-वाक्य में अर्जित किया है – सभी ऊंचाइयों के लिए एक अनिवार्य उपकरण।  श्री करे ने इस घड़ी की तकनीकी सूक्ष्मता पर एक गहन विश्लेषण प्रस्तुत किया और बताया कि इस अनोखे मास्टरपीस को बनाने के पीछे किस प्रकार के शोध और निर्माण कार्य किए गए हैं।

द रेडर बाइवोक 9000 पहला मैकेनिकल रिस्टवाच है जो समुद्रतल से अविश्वसनीय रूप से 9000 मीटर की ऊंचाई तक ऊंचाई मापने में सक्षम है। 1962 में, जब फेवरे-ल्यूबा ने दुनिया का पहला मैकेनिकल रिस्टवाच पेश किया जो समुद्रतल से 3000 मीटर की ऊंचाई तक वायुदाब तथा ऊंचाई मापने में सक्षम था, इस घड़ी की शानदार विश्वसनीयता तथा शुद्धता के साथ ही इसकी विशेषता थी कि यह उपयोग करने और पढ़ने में बिल्कुल आसान था, ने इसे पर्वतारोहियों, पाइलटों, खोजियों तथा लगभग सभी प्रकार के उन अन्वेषकों के लिए एक आवश्यक पहचान बना दिया, जो महान वस्तुओं की खोज में लगे हैं।

द रेडर बाइवोक 9000 इसके पूर्ववर्ती हमनाम 1962 की ख्यातिप्राप्त घड़ी को एक सलाम है, लेकिन इसे उन्नत और परिष्कृत किया गया है ताकि इसे अतिउच्च ऊंचाइयों पर विश्वसनीय सहयोगी के रूप में डिजाइन किए गए उच्चतम कार्यक्षमता वाले उपकरण के क्षेत्र में बढ़ती हुई मांग के अनुरूप सक्षम बनाया जा सके। द रेडर बाइवोक 9000 अब भी एक एनोराइड बैरोमीटर के साथ ऊंचाई की माप करता है, किंतु अब यह समुद्रतल से 9,000 मीटर तक की एक अविश्वसनीय ऊंचाई तक यह माप करेगा।

इस अवसर पर बोलते हुए, श्री मोर्फ, फेवरे-ल्यूबा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, ने कहा, “हम बाइवोक 9000 के साथ फेवरे-ल्यूबा की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए अत्यंत गौरवान्वित हैं, जो एक एनोराइड बैरोमीटर के साथ दुनिया का पहला रिस्टवाच है जो 9,000 मीटर तक की ऊंचाई मापता है। यह अविश्वसनीय टाइमपीस सामान्य से बहुत आगे तथा परे निकल चुका है और यह 1962 के अपने पूर्ववर्ती संस्करण से प्रेरित है। फेवरे-ल्यूबा के 280 वर्ष निश्चय ही एक यादगार उत्सव मनाने के योग्य है, और इसे मनाने का इससे अच्छा और क्या तरीका होता कि हमने सभी ऊंचाइयों के लिए उपयुक्त एक उत्कृष्ट उपकरण बना डाला। इस मशहूर टाइमपीस को भारत में पेश करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है, मुझे आशा है कि इसे यहां के हमारे ग्राहक जरूर पसंद करेंगे।”

श्री करे, फेवरे-ल्यूबा के मुख्य तकनीकी अधिकारी ने आगे कहा, “बाइवोक 9000 में बहुत सारे खास तकनीकी सुधार तथा सूक्ष्मताएं शामिल की गई हैं। इनमें सबसे खास विशेषता ऊंचाई की मापक्षमता में वृद्धि है जिससे अब यह 3,000 से 9,000 मीटर तक ऊंचाई की माप में सक्षम हो गया है। इसके लिए बैरोमीटर के लिए नए किस्म के पदार्थों का उपयोग तथा कैप्यूल की ऊंचाई तथा व्यास के लिए सटीक गणना के साथ ही आल्टीमीटर के लिए एक नया रूपांतरण तंत्र अपेक्षित था।”

जब रेडर बाइवोक 9000 को डिजाइन किया जा रहा था, फेवरे-ल्यूबा ने ब्रांड के विशिष्ट डिजाइन तत्वों के आधुनिक प्रस्तुतिकरण के साथ एक घड़ी बनाने के लिए अपने प्रख्यात पूर्ववर्ती टाइमपीस से प्रेरणा प्राप्त की। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण था कि किसी भी स्थिति में डायल को आसानी से पढ़ा जा सके। डायल का स्टाइल अतिसूक्ष्म रखा गया है, जिसमें महत्वपूर्ण प्रदर्शनीय तत्वों को बाधित करने के लिए अनावश्यक तत्व नहीं हैं।

1962 के बाइवोक से अलग, यह नया संस्करण जलरोधी है; ऐसा इसके केस में बैरोमीटर के लिए आवश्यक वायु-छिद्र के बावजूद किया गया है, जिसे अतिसूक्ष्म-निर्मित हाइड्रोफोबिक तत्व से निर्मित एक महीन किंतु कठोर झिल्ली के द्वारा सुरक्षित किया गया है। इस झिल्ली से होकर हवा अंदर जा सकती है लेकिन जल या धूलकण को यह रोक देती है।

द रेडर बाइवोक 9000 अपने आकर्षक आकार से भी लोगों का ध्यान आकृष्ट करती है, खासतौर पर इसका बेहद मजबूत केस जो केवल 48 मिलीमीटर व्यास का है। इसे हल्के वजन वाले, कठोर-सतह तथा हाइपो-अलर्जेनिक टाइटेनियम से बनाया गया है, जिससे यह घड़ी अपने आकार के बावजूद पहनने में आरामदेह है। द्विदिश घूर्णनशील बैजल, जो फेवरे-ल्यूबा के ट्रेडमार्क टेट्रा डिकोना डिजाइन की खासियत है, में एक आल्टीमीटर स्केल दिया हुआ है जो 50 मीटर स्टेप में विभाजित है। केस के किनारों पर फैला चाप समय पर बने हुए एक पुल की तरह है जो इस असाधारण टाइमपीस के गतिक सौंदर्य में चार चांद लगा देता है और यह इसके पूर्ववर्ती घड़ी की परंपरा का एक प्रतीक भी है।* विंटेज लुक वाली चमड़े की पट्टी इसके स्टाइल को और विशेष बना देती है।

लाल केंद्रीय कांटा द्विदिश घूर्णनशील बेजल में ऊंचाई दिखाता है, जिसमें 50 मीटर के स्टेप पर विभाजित एक स्केल 3,000 मीटर तक दिया गया है। लाल केंद्रीय कांटे के दाहिनी ओर पूरा घूमने का मतलब 3,000 मीटर की ऊंचाई पर पहुंचना है। चढ़ाई के दौरान, उप-डायल में 3 बजे को दिखाता हुआ छोटा लाल कांटा भी घूमता रहता है, जबतक कि केंद्रीय कांटे के तीन बार पूरी तरह घूमने के बाद यह अपने अंतिम गंतव्य समुद्र तल से 9,000 मीटर की ऊंचाई पर पहुंच जाता है। यह बेजल दो तरह के शाफ्ट तंत्र द्वारा सुरक्षित रूप से स्थापित किया गया है जिससे यह अनायास किसी अलग स्थिति में गति करने से रोका जा सके।

बैरोमीटर का केंद्रीय भाग एक खास किस्म की मिश्रधातु से निर्मित वायुरोधी कैप्स्यूल है। यह कैप्स्यूल फैलता है जब वायुदाब में कमी होती है जब इसे पहने हुए व्यक्ति ऊंचाई पर जाता है और यह सिकुड़ता है जब नीचे की ओर आते हुए पहने हुए आदमी के आसपास वायुदाब बढ़ता है। इस कैप्स्यूल में फैलाव और सिकुड़न से एक लाइनर गति सक्रिय होती है, जो ऊंचाई बताने के लिए घूर्णन गति में बदल दी जाती है। द रेडर बाइवोक 9000 एकसमान ऊंचाई पर वायुदाब में हुए किसी परिवर्तन को भी बता सकता है। इसके उप-डायल में 3 बजे पर लगा हुआ हेक्टोपास्कल (hPA) मापक 1013 से 300 hPA के स्केल पर वर्तमान वायुदाब को प्रदर्शित करता है।

श्री साबू, एथोस वाच ब्यूटिक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने कहा, “हमें बेहद खुशी है कि हम फेवरे-ल्यूबा जैसे महान और विरासती ब्रांड के साथ हैं, खासतौर पर भारत में अपने ब्यूटिक में अपने ग्राहकों के लिए इस विशिष्ट पहचान वाले टाइमपीस को प्रस्तुत कर रहे हैं। द बाइवोक 9000 इस ब्रांड की विशिष्टताओं – टिकाऊपन और प्रामाणिकता– के अलावा उन क्षमताओं का प्रतीक है जिन्होंने घड़ी निर्माण को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है। हम ब्रांड के साथ अपने स्वस्थ संबंधों के और मजबूत होने और इस क्षेत्र में इसकी वृद्धि को सहयोग प्रदान करने की आशा करते हैं।”

भारत में, इस मशहूर टाइमपीस की कीमत रु. 5,31,000 होगी और यह दिसंबर 2017 से एथोस ब्यूटिक्स में खासतौर से उपलब्ध रहेगा।