अक्तूबर 04, 2017

टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल 2017 टीवी दर्शकों के लिए 2017 के सिनेमा के छिपे रत्नों को पेश कर रहा है

  • समीक्षकों द्वारा प्रशंसित और पुरस्कृत मास्टरपीसों के साथ-साथ ताजी कभी ना देखी सामग्री का विवेकपूर्ण मिश्रण
  • भारत के बेहतरीन फिल्म फेस्टिवल अनुभव को विशिष्ट रूप से टीवी पर पेश करता है

मुंबई: भारत के अग्रणी कंटेंट वितरक प्लेटफार्म टाटा स्काई के साथ उत्सव के मौसम की शुरुआत करने के लिए खुशखबरी, जो भारतीय बाजार के लिए विशेष रूप से अनुकूलित परस्पर संवादात्मक सेवाएं पेश करने के लिए जाने जाते हैं। टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल का समय आ गया है जिसमें – भारत के सुदूर किनारों व दुनिया के देशों, दोनो ओर की फिल्में शामिल हैं जो पुरस्कृत हैं, समीक्षकों द्वारा प्रशंसित मास्टरपीस हैं,  ये दो माह तक चलेगा, जिसे आप अपने घर के आरामदातयक वातावरण में बैठ कर देख सकते हैं। ये फिल्में विशिष्ट रूप से टाटा स्काई पर उपलब्ध हैं और स्टार के साथ जियो मामि मुंबई फिल्म फेस्टिवल के साथ सहयोग में निर्मित है।

2016 टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल की सफलता के बाद, जिसमें 20+ फिल्मों को टाटा स्काई के दर्शकों को बिना अतिरिक्त लागत के उपलब्ध कराया गया था, – इस कंपनी ने आज फिल्मों के पारखियों के लिए अधिक बड़े व बेहतर टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल 2017 की घोषणा की। ऐसा करने में टाटा स्काई अपने दर्शकों के लिए विशिष्ट रूप से भारत के बेहतरीन सिनेमा को पेश करेगा जो अन्यथा देश के दर्शकों तक नहीं पहुंच पाता है।

अरुण उन्नी, चीफ कंटेंट ऑफिसर, टाटा स्काई ने इस लॉन्च पर कहा कि, “पिछले साल के टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल को मिली प्रतिक्रिया ने दर्शाया कि समीक्षकों द्वारा प्रशंसित और उच्च गुणवत्ता सिनेमा के लिए एक बडा़ दर्शक वर्ग है, जिसने हमें सिनेमा के इन छिपे रत्नों को खोज कर बाहर लाने के लिए प्रेरित किया। टाटा स्काई खुद को एक कंटेंट व दर्शक खोज प्लेटफार्म के रूप में देखता है जहां पर हमारा उद्देश्य हर साल उच्च गुणवत्ता फिल्मों को व्यापक दर्शकों के सामने पेश करने का है। हमारी स्केल हमें महान कला और अच्छी प्रतिभा को एक अखिल भारतीय प्लेटफार्म पर सपोर्ट करने में सक्षम करता है, विशेष रूप से प्रमुख सांस्कृतिक केन्द्रों से बाहर वाले क्षेत्रों में, जहां पर अन्यथा फिल्म फेस्टिवलों तक पहुंच कठिन है।”

श्री उन्नि ने आगे कहा, “हमार दृष्टिकोण में यह सर्विस दर्शकों के लिए मात्र महान सिनेमा पेश करने से कहीं आगे जाने की है। यह फिल्म व्यवसाय के लिए प्रदर्शन के एक अतिरिक्त प्लेटफार्म की तरह भी काम करता है।”

टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल 2017 की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं: 

  • टीवी के लिए स्टार के साथ जियो मामि मुंबई फिल्म फेस्टिवल के सहयोग में विशिष्ट और चुनी हुई फिल्म: दो महीने की अवधि के लिए लगभग 30 फिल्में चलेंगी
  • जिसमें समीक्षकों द्वारा प्रशंसित, पुरस्कृत मास्टरपीसों के साथ-साथ ताजी, पहले कभी ना देखी गयी सामग्री शामिल होगी
  • भाषाएं: हिन्दी, अंग्रेजी, पंजाबी, मराठी, असमी, मणिपुरी, अंतरराष्ट्रीय (सबटाइटिलों के साथ)
  • अवधि: दो माह (1 अक्टूबर से 30 नवंबर तक)
  • उपलब्धता: चैनल नंबर: एचडी में #302 & एसडी में #303 (साइमलकास्ट)

अनुपमा चोपड़ा, निदेशक, स्टार के साथ जियो मामि मुंबई फिल्म फेस्टिवल ने कहा, “हम टाटा स्काई के साथ अपनी साझीदारी को महत्व देते हैं।  भारत में सिनेमा के लिए जबरदस्त जुनून है।  यहां अनेक बेहतरीन फिल्म मेकर है जो खूबसूरत कहानियां बना रहे हैं।  यह विशिष्ट प्लेटफार्म इन कहानियों को नए और विविध दर्शकों के सामने पेश करने में संबल देता है। टाटा स्काई पर मुंबई फिल्म फेस्टिवल कहानी कहने वालों और फिल्मों के प्रशंसकों, दोनो को लाभ देता है।  तो सिनेमा के उत्सव को शुरु होने दें!”

टाटा स्काई मुंबई फिल्म फेस्टिवल – प्रोमो फिल्में:

चुनिंदा फिल्में:

ही नेम्ड मी मलाला, यूएसए
2015 – अंग्रेजी
हरामखोर, भारत
2016 – हिन्दी
ट्रैप्ड, भारत
2016 - हिन्दी
अलीगढ़, भारत
2015 – हिन्दी
कागज़ की कश्ती, भारत
2016 – हिन्दी
बाईस्कोप, भारत
2016 - हिन्दी
ला केज, फ्रांस
2016 - फ्रेंच
खोया, भारत
2015 - हिन्दी
वेंटीलेटर, भारत
2016 - मराठी
व्लू बाइसिकिल, तुर्की
2016 – टर्किश
फैंड्री, भारत
2012 - मराठी
हम चित्र बनाते हैं
भारत, 2016 - हिन्दी
सिटीज़ ऑफ स्लीप, भारत
2015 - हिन्दी
कोथानोडी, भारत
2015 -असमी
फेथ कनेक्शन, भारत
2013 - अंग्रेजी, हिन्दी
आई, डेनियल ब्लेक, यूके, फ्रांस,
बेल्जियम
2016 – अंग्रेजी
रिमेंबरिंग कुर्दी, भारत
2016 - मराठी
गंगूबाई, भारत
2012 - मराठी
क्विसा, भारत
2013 - पंजाबी
नटरंग, भारत
2012 – मराठी
चौरंगा, भारत
2014 - हिन्दी
काफाल, भारत
2013 - हिन्दी
प्लासेबो, भारत
2014 – अंग्रेजी
ऐंग्री इंडियन गॉडेस
भारत, 2015 - अंग्रेजी, हिन्दी
अम्मा ऐंड अप्पा, जर्मनी
2014 - अंग्रेजी
मोर मन के भरम
भारत, 2015 - हिन्दी
कटियाबाज़, भारत
2013 - हिन्दी