नवम्बर 14, 2017

टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन को सीआईआई औद्योगिक नवाचार पुरस्कार 2017 प्रदान किया गया

केबिलों में टैम्पर एविडेंट मीटरिंग, सिलिकॉन थेरेपी के लिए पेटेंट किए गए स्मार्ट सेंसर - ट्री रिटार्डेंट परफार्मेंस और सामाजिक नवाचार प्रोग्राम – लर्नर्स से लीडर्स के रूप में सर्वश्रेष्ठ नवाचार के रूप में सम्मानित

नई दिल्ली: भारत में पावर वितरण में अग्रणी टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन (टाटा पावर-डीडीएल) को सेवा क्षेत्र में ऐतिहासिक नवाचार समाधानों के लिए भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) औद्योगिक नवाचार पुरस्कार 2017 से सम्मानित किया गया है: सीआईआई औद्योगिक नवाचार सम्मिट 2017, नई दिल्ली में बड़ी इंटरप्राइस श्रेणी। यह पुरस्कार टाटा पावर-डीडीएल को भारत में शीर्ष 26 सबसे अधिक अभिनव कंपनियों में से एक के रूप में सम्मानित करता है। टाटा पावर-डीडीएल को यह पुरस्कार डॉ सी मुरलीकृष्ण कुमार (वरिष्ठ सलाहकार, नीति आयोग), राजन नवानी (चेयरमैन, सीआईआई काउंसिल ऑन फ्यूचर बिजनेस तथा एमडी, जेटलाइन समूह), डॉ नौशाद फोर्ब्स (सह-चेयरमैन, फोर्ब्स मार्शल) और एस गोपालकृष्णन (चेयरमैन, सीआईआई स्टार्टअप काउंसिल, सह-संस्थापक, इंफोसिस और चेयरमैन, ऐक्सिलोर वेंचर्स) द्वारा दिया गया।

सीआईआई औद्योगिक नवाचार सम्मिट, 2017 में पुरस्कार प्राप्त करते हुए टाटा पावर-डीडीएल टीम मेंबर

यह पुरस्कार टाटा पावर डीडीएल को इसके मॉडल: टैंपर एविडेंट मीटरिंग के लिए पेटेंटड स्मार्ट सेंसर, केबिलों में सिलिकॉन थेरेपी – ट्री रिटार्डेंट परफारमेंस और इसके सोशल इन्नोवेशन मॉडल लर्नर्स से लीडर्स के लिए दिया गया था।

टैंपर एविडेंट मीटरिंग के लिए मॉडल पेटेंटेड स्मार्ट सेंसर, टेंपरिंग की जानकारी के साथ मीटर को डिजिटल स्टैंप देने के लिए एक विशिष्ट स्मार्ट सेंसर उपयोग करता है, जिसमें बिजली की चोरी के किसी प्रयास का समय व तारीख शामिल होता है। केबिलों में सिलिकॉन थेरेपी का दूसरा मॉडल – ट्री रिटार्डेंट परफार्मेंस – सिलिकॉन थेरेपी के माध्यम से, पावर केबिलों की क्षति की रोकथाम में सहायता के माध्यम से पावर केबिलों के जीवन में सुधार में सहायता करता है।

अपने तीसरे मॉडल लर्नर्स से लीडर्स के साथ, टाटा पावर-डीडीएल जेजे तथा पुनःस्थापना कालोनियों में रहने वाली महिलाओं को सामाजिक-आर्थिक रूप से मजबूत बनाता है। इन महिलाओं को घर-घर चलने वाले अभियानों के माध्मय से सामाजिक संदेश फैलाने और संबंधित योजनाओं का लाभ उठाने के लिए समय पर भुगतान सुनिश्चित करने के लिए महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए सामाजिक कार्यकर्ताओं और अंशकालिक संदेशवाहकों के रूप में प्रशिक्षित किया जा रहा है।

सीआईआई औद्योगिक नवाचार पुरस्कार को सीआईआई द्वारा 2014 में, सभी औद्योगिक क्षेत्रों में नवाचारी भारतीय इंटरप्राइस को सम्मानित करने के लिए स्थापित किया गया था और पिछले तीन बरसों से इसने खुद को भारत में एक बेहद प्रतिष्ठित नवाचार पुरस्कार के रूप में स्थापित कर लिया है। यह पुरस्कार भारतीय उद्योग के सबसे चमकदार सितारों को पहचान देने व सम्मानित करता है, और वार्षिक रूप से देश में शीर्ष अभिनव संगठनों तथा स्टार्टअप्स की पहचान करता है। इस साल 200 से अधिक आवेदकों ने इस पुरस्कार के लिए आवेदन किया था, जो मूल्यांकन की कठोर प्रक्रिया से होकर गुजरे।

इस औद्योगिक नवाचार सम्मिट में क्षेत्रवार सत्र तथा प्रदर्शनियां भी थीं, जहां पर सात क्षेत्रों से भारतीय उद्योगों की ओर से अग्रणी अभिनव तथा प्रौद्योगिकीय प्रस्ताव पेश किए गए थे।

इस सम्मान पर टिप्पणी करते हुए, प्रवीर सिन्हा, सीईओ व एमडी, टाटा पावर-डीडीएल ने कहा, " भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा दिए जाने वाले इस प्रतिष्ठित पुरस्कार को प्राप्त करके हम बेहद प्रसन्न हैं। हम क्षेत्रवार विकास तथा सामाजिक बेहतरी के लिए अभिनव समाधानों की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”

टाटा पावर-डीडीएल के लर्नर्स से लीडर्स मॉडल को भी विश्व बैंक द्वारा सराहा गया है तथा दूसरे कई देशों में इसकी नकल की गयी है।