अक्तूबर 18, 2017

साई मित्रा कंस्ट्रक्शंस के नवीन कुमार तथा फणी महेश टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज 2017 के विजेता रहे

  • टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज के 14वें संस्करण का समापन मुंबई में राष्ट्रीय फाइनलों के साथ हुआ
  • प्रतिष्ठित टाटा क्रूसिबल ट्रॉफी के साथ ही, विजेताओं को रु. 5 लाख* के नकद पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया

मुंबई: जोश-खरोश और उत्साहित भीड़ के बीच, साई मित्रा कंस्ट्रक्शंस से नवीन कुमार तथा फणी महेश को टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज 2017 के नेशनल फाइनल्स का विजेता घोषित किया गया, जिसका आयोजन मुंबई के ताजमहल पैलेस होटल में रविवार, 15 अक्टूबर, 2017 को किया गया था। भारत के सबसे बड़े कॉरपोरेट क्विज के 14वें संस्करण का आयोजन दो माह से चल रहा था, जिसके तहत 25 शहरों को पार करते हुए, चार जोनल राउंड से गुजरकर यह स्पर्धा नेशनल फाइनल्स तक पहुंची। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) के जयकांतन तथा अनिरुद्ध दत्ता को उपविजेता घोषित किया गया।

साइ मित्रा कंस्ट्रक्शंस से नवीन कुमार तथा फणी महेश अपनी पुरस्कार राशि तथा ट्रॉफी प्राप्त करते हुए

इन 14 वर्षों में, टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज भारत के उद्योग जगत में सर्वाधिक प्रतिष्ठित क्विज प्रतियोगिता बन गया है। टाटा समूह का एक ज्ञान प्रयास, टाटा क्रूसिबल युवा मेधाओं को अपनी क्विज कुशलता प्रदर्शित करने का एक आदर्श मंच प्रदान करता है, जिससे द्वारा यह उद्योग जगत में ज्ञान-लब्धियों के कीर्तिमान स्थापित करता है। देश के संपूर्ण क्षेत्र में विस्तृत, मेट्रो तथा द्वितीय और तृतीय श्रेणी के शहरों को सम्मिलित करते हुए, इस वर्ष यह क्विज 1300 से ज्यादा कॉरपोरेट टीमों की भागीदारी का साक्षी बना।

प्रतिष्ठित टाटा क्रूसिबल ट्रॉफी के अलावा, राष्ट्रीय फाइनल्स के विजेताओं को रु. 5 लाख* के नकद पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। (*स्रोत पर कर कटौती के अधीन)

इस संध्या के मुख्य अतिथि, एफएन सूबेदार, अध्यक्ष, टाटा सर्विसेज, ने विजेता टीमों को पुरस्कृत किया। इस अवसर पर विजेताओं को बधाई देते हुए, श्री सूबेदार ने अपनी टिप्पणी में कहा, “यह देखकर बहुत खुशी हुई कि श्री गोपालकृष्णन ने जिसे प्रारंभ किया था वह आज 14 वर्षों में इतना विस्तृत और सुंदर हो गया है। टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज आज के युवा की प्रतिभा का बिल्कुल सटीक प्रतिदर्श है। प्रतिभागीगण अपनी तैयारी और प्रदर्शन के साथ अत्यधिक प्रोत्साहित प्रतीत हुए। उनकी तैयारी आज के आयोजन में सामने आई।”

खुशी से चहकते हुए, टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज के विजेताओं ने फाइनल तक की अपनी इस रोमांचक यात्रा के पड़ावों के बारे में बताया। प्रतिष्ठा के इस क्षण के बारे में बात करते हुए, श्री कुमार ने कहा, “इस वर्ष मैंने जिस रणनीति का इस्तेमाल किया, वह हर प्रश्न को हल करना तथा अंक प्राप्त करने के लिए अधिकतम अवसरों का इस्तेमाल करना था। टाता क्रूसिबल में यह मेरा सातवां वर्ष है और मुझे यह विजय हासिल करने में सात साल लगे। मुझे क्विज से प्यार है और टाटा क्रूसिबल में जीतना हमेशा मेरा सपना रहा। मेरा खयाल है कि यह टाटा का एक शानदार प्रयास है और मुझे आशा है कि वे इसे आगे भी जारी रखेंगे।” अपने टीमसाथी की भावनाओं के ही अनुरूप अपनी टिप्पणी में, श्री महेश ने कहा, “हम कई वर्षों से अनवरत रूप से इस टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज में जीतने के लिए प्रयास करते रहे थे। इससे पहले मामूली सी गलतियों के कारण हम इस विजय से चूकते रहे। हमने शांत रहने का निश्चय किया नहीं तो टीम अंक खो देती। भारत में अत्यधिक युवा जनसंख्या है और युवाओं को कुछ मूल्यवान की प्राप्ति के लिए प्रेरित करने के लिए यह अपनी तरह का एक श्रेष्ठतम प्रयास है।”

टाटा कॉरपोरेट क्विज 2017 का प्रारूप ‘रीयल टाइम रणनीति’ पर आधारित था, जिसका लक्ष्य व्यवसाय संचालन के लिए एक त्वरित वातावरण के सतत-तंत्र का सृजन करना था। इसके तहत समसामयिक गेमिंग अवधारणाओं के साथ कई कठिन राउंड सम्मिलित थे जिन्हें हल कर इस प्रतिष्ठित सम्मान को जीतने के लिए निर्णय प्रक्रिया और रणनीति का इस्तेमाल करने की जरूरत थी। क्षेत्रीय राउंडों का आयोजन चार जोन के अंतर्गत आनेवाले 25 शहरों में किया गया। क्षेत्रीय राउंडों में विजेता प्रतिभागियों ने जोनल फाइनल्स में जीत हासिल की, और हर जोनल फाइनल से दो श्रेष्ठ टीमों को नेशनल फाइनल के लिए आमंत्रित किया गया।

जिन शहरों में इस क्विज का आयोजन किया गया उनमें शामिल हैं, नई दिल्ली, चंडीगढ़, इलेक्ट्रॉनिक सिटी (बंगलुरु), गुड़गांव, जयपुर, इंदौर, गाजियाबाद-नोएडा, कोलकाता, विशाखापत्तनम, गुवाहाटी, भुवनेश्वर, रायपुर, जमशेदपुर, मुंबई, पुणे, नागपुर, गोवा, अहमदाबाद, नवी मुंबई, चेन्नई, बंगलुरु, तिरुनंतपुरम, कोयंबटूर, कोच्चि तथा हैदराबाद।

प्रख्यात क्विजमास्टर गिरि बालासुब्रमण्यम, जिन्हें ‘पिकब्रेन’ के लोकप्रिय नाम से जाना जाता है ने अपनी अनूठी वाक-पटुता के साथ विनोदपूर्ण शैली में स्पर्धा को संचालित करते हुए प्रतियोगिता की मेजबानी की। इसमें तीन प्रश्नों का एक विशेष राउंड था जिसे हरीश भट्ट, टाटा संस के ब्रांड कस्टोडियन ने संचालित किया। अपने हर नए संस्करण के साथ, टाटा क्रूसिबल कॉरपोरेट क्विज, क्विज स्पर्धाओं के नए कीर्तिमान बना रहा है और इस 14वें संस्करण के साथ यह शीर्ष तक पहुंचता दिख रहा है। यह एक शाम थी जब धैर्य, दृढ़संकल्प और रणनीतिक सोच को कसौटी पर कसा गया। फिनाले पर विजेताओं, साइ मित्रा कंस्ट्रक्शंस का वर्चस्व रहा, जिन्होंने हर प्रश्न पर सही बजरध्वनि के साथ जीत हासिल की और शुरुआती दौर में ही काफी अधिक अंक प्राप्त कर लिए। एडेलविस तथा TCS की टीमों ने भी बाद के राउंडों में उन्हें पकड़ने का प्रयास किया, लेकिन 1350 अंकों के जबर्दस्त स्कोर के साथ, साइ मित्रा कंस्ट्रक्शंस ने सुरक्षित रूप से सबसे ऊंचा स्थान हासिल कर ही लिया। इस शाम का आखिरी सवाल पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय डा. एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में उनके प्रति एक सच्ची श्रद्धांजलि थी।

राष्ट्रीय फाइनल के प्रश्नों में से कुछ इस प्रकार हैं:

प्रश्र्न: वह कौन प्रथम भारतीय था जिसने प्रतिष्ठित NSS वॉन ब्राउन मेमोरियल अवार्ड जीता?
उत्तर: स्वर्गीय डा. एपीजे अब्दुल कलाम

प्रश्न: डा. कलाम की दुनिया से जी पेंग द्वारा चीन में हुओ यी क्या है?
उत्तर: विंग्स ऑफ फायर

प्रश्न: 1979 में, प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई तथा भारत सरकार के समक्ष एक अनोखा आवेदन आया, जिसे व्यक्तिगत तथा सामूहिक रूप से 65,000 से अधिक श्रमिकों द्वारा हस्ताक्षरित किया गया था। इस आवेदन में यह अनुरोध किया गया था कि वर्तमान कार्यप्रणाली में किसी भी प्रकार के विघटन से श्रमिकों में काफी अधिक असंतोष पैदा होगा, जिससे देश के उत्पादन में घाटा होगा, जो किसी के लिए भी लाभदायक नहीं है। यह आवेदन किसके विषय में था?
उत्तर: टाटा स्टील का राष्ट्रीयकरण

प्रश्न: इन तीन किताबों में एकसमान क्या है- द अनडूइंग प्रॉजेक्ट, मिसबिहेविंग तथा थिंकिंग फास्ट एंड स्लो?
उत्तर: व्यवहारगत अर्थशास्त्र

फाइनल तक पहुंचनेवाली आठ टीमें थीं:

ज़ोन 1
  • विजेता: रोहन खन्ना तथा आदित्य गादरे, डिलाइटे
  • उपविजेता: अमित सिंह रावत तथा रवि हांडा, होंडा एजुकेशन सर्विसेज
जोन 2
  • विजेता: सेतु माधवन तथा रबी शंकर साहा, कैपजेमिनी
  • उपविजेता: S.W किसपोट्टा तथा आनंद राज, बोकारो स्टील
जोन 3
  • विजेता: अनिल कोथुरी तथा राजीव राय, एडेलविस
  • उपविजेता: सम्राट मुखर्जी तथा T.T. साइ, कार्तिक, कोटक महिंद्रा बैंक
जोन 4
  • विजेता: नवीन कुमार तथा फणी महेश, साइ मित्रा कंस्ट्रक्शंस
  • उपविजेता: जयकांतन & अनिरुद्ध दत्ता, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज- चेन्नई

 

टाटा क्रूसिबल हैकाथन की पेशकश

टाटा क्रूसिबल ने इस वर्ष अपने क्षितिज का विस्तार किया है और अपने दायरे में एक और मंच शामिल किया है, जिसका नाम है ‘टाटा क्रूसिबल हैकाथन’। विषयवस्तु सहयोगी के रूप में टाटा समूह के ग्रुप टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन ऑफिस के साथ, टाटा क्रूसिबल हैकाथन में किसी भी संगठन में पूर्णकालिक कार्यरत पेशेवरों को आमंत्रित किया गया था, ताकि वे अपने विचारों के साथ इसमें भाग लें और सड़क-सुरक्षा संबंधित विषयों पर औद्योगिक प्रक्रियाओं से जुड़ी सर्वाधिक दिलचस्प चुनौतियों का सामना करें। इस हैकाथन को चार जोनल आयोजनों में बांटा गया था, जिनका आयोजन 24 सितंबर, 2017 को हैदराबाद में, 7 अक्टूबर, 2017 को कोलकाता में, 8 अक्टूबर, 2017 को दिल्ली, और 14 अक्टूबर, 2017 को मुंबई में किया गया। टाटा क्रूसिबल हैकाथन के प्रथम संस्करण में चुनौतियों के लिए नवीन तथा दिलचस्प समाधान प्राप्त हुए। इस वर्ष के क्विज के पुरस्कार टाटा मोटर्स तथा टाटा ग्लोबल बेवरेजेज (TGB) के जागो रे अभियान के सौजन्य से प्रायोजित हैं।