नवम्बर 06, 2015

वित्तीय वर्ष 16 की दूसरी तिमाही में परिचालन से टाटा केमिकल्स की समेकित आय रू.4,997 करोड़ - वर्ष दर वर्ष के आधार पर 4 प्रतिशत अधिक

ग्राहक कारोबार पोर्टफोलियो में वर्ष दर वर्ष के आधार पर 35 प्रतिशत की वृद्धि

मुंबईः टाटा केमिकल्स (टीसीएल), अपने मूल में लाइफ (लिविंग, इन्डस्ट्री और फार्म एसेन्शल्स) का मूल मंत्र समाने वाली वैश्विक कंपनी ने अपनी परिचालन आय रू.4,997 करोड़ दर्ज की है, यानी वर्ष दर वर्ष के आधार पर 4 प्रतिशत की बढ़त।

प्रमुख प्रदर्शन तथा वित्तीय झलकियां:

साबित किया

  • सोडा एश तथा नमक व्यापार में जोरदार प्रदर्शन।
  • ग्राहक उत्पाद पोर्टफोलियो में वित्तीय वर्ष 15 की दूसरी तिमाही के मुकाबले, 35 प्रतिशत की वृद्धि।
  • एनसीआर और उत्तर भारत के राज्यों में मसालों का सफलतापूर्वक बाज़ार प्रस्तुतिकरण
  • कृषि कारोबार, असंतुलित और अनियमित वर्षा से प्रभावित
  • 30 सितम्बर, 2015 (मार्च, 2015 के अनुसार रू.1,972 करोड़) के अनुसार अनुदान रिसिवेबल रू.1,005 करोड़

समेकित

  • मगड़ी की लाभकारिता में सुधार और सकारात्मक प्रदर्शन जारी।
  • यूके में स्टीम टर्बाइन पूर्णतया कार्यरत, परिचालन में और सुधार पर सतत रूप से ध्यान केन्द्रित।
  • यूएस के वॉल्यूम पर उत्पादन कटौती समय का असर, उसके लिए यथायोग्य किया गया।
  • का रैलीस इन्डिया का कार्य प्रदर्शन विपरित जलवायु परिस्थिति से प्रभावित

विव 16 की दूसरी तिमाही के कंपनी कार्यप्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए आर मुकुंदन्, प्रबंध निदेशक, टीसीएल- ने कहाः
"मूल्यांकन की जा रही इस तिमाही के दौरान रसायनों और ग्राहक कारोबार पोर्टफोलियो में संतुष्टिजनक वृद्धि देखने मिली। मगड़ी के कार्य प्रदर्शन में आया सुधार, रसायन व्यापार में देखने मिल रहे सुधार में प्रतिबिम्बित होता नज़र आता है। यूके में स्टीम टर्बाइ परियोजना का सफल कार्यान्वयन किया गया है, और व्यापार में और भी सुधार लाने की द्दष्टि से हम सतर्क हैं और अन्य अवसरों पर अपनी द्दष्टि जमाए हुए हैं। उर्वरकों तथा अन्य कृषि-विषयक व्यापार पर असंतुलित और अनियिमत वर्षा का असर पड़ा है।

"भारत में ग्राहक उत्पाद तथा रसायन व्यापार में बेहतर प्रदर्शन के कारण, एकल राजस्व में 8 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज होते हुए यह रू.3,056 करोड़ हासिल किया गया। दालों के वॉल्यूम में सुधार होते हुए, पिछले वर्ष की तुलना में इसमें 70 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई, नमक और गैर-थोक कृषि व्यापार ने भी बढ़े हुए टर्नओवर में अपना अपना योगदान दिया। बेहतर योगदान के कारण ऊर्जा की लागत में कमी आयी और समग्रतया रासायन व्यापार में सुधार होन के कारण तथा अन्य तमाम व्यापारों का कार्यप्रदर्शन भी सकारात्मक रहने के कारण समेकित राजस्व रू.4,997 करोड़ हासिल किया जा सका जो कि वित्तीय वर्ष 2014-15 की आखरी तिमाही के मुकाबले 4 प्रतिशत की वृद्धि हासिल की गई।

"ग्राहक उत्पाद व्यापार में वृद्धि का चलन जारी रहा है और राष्ट्र के ब्रांडयुक्त खाद्य नमक बाज़ार में 67.3 प्रतिशत हिस्से के साथ अपना नेतृत्व बरकरार रखा है। ग्राहक उत्पाद व्यापार को विस्तार देने पर अपना ध्यान केन्द्रित किये हुए हमने पिछली तिमाही के दौरान मसालों की श्रेणी को बाज़ार में उतारा और दालों समेत रोज़ाना के खाद्य उत्पादों को, नव प्रस्तुत टाटा संपन्न के अम्ब्रेला ब्रांड तहत लाया गया।

"न्यूट्रास्यूटिकल्स व्यापार ने भी अपनी पहुंच बढ़ाई है और हमारे उत्पाद एफओएस अब भारत में 70 शहरों में उपलब्ध हैं।

"उर्वरक व्यापार में, 30 सितम्बर, 2015 के अनुसार, बकाया अनुदान रू.1,005 करोड़ है और अब भी यह चुनौती बना हुआ है।

"आगे बढ़ते हुए. हम उम्मीद करते हैं कि भारतीय बाज़ार समग्र रूप से अपनी गति की चाल जारी रखेगा, हम हमारे व्यापारों में वृद्धि को ले कर तथा रूपांतरण को ले कर भी सकारात्मक सोच रखते हैं कि अधिक ग्राहक लक्षी पोर्टफोलियो बनेगा।"

व्यापार के अनुसार प्रदर्शन

लिविंग एसेन्शल्स

  • ग्राहक उत्पाद पोर्टफोलियो राजस्व में विव15 की दूसरी तिमाही में 35 प्रतिशत की वृद्धि।
  • टीसीएल 67.3 प्रतिशत बाज़ार हिस्से के साथ राष्ट्रीय ब्रांडयुक्त नमक विभाग में बाज़ार अग्रसर
  • प्रत्येक दिन के खाद्य पोर्टफोलियों को पोषणसंपन्न बनाते हुए, टाटा संपन्न नामक नये ब्रांड की प्रस्तुति सितम्बर में एनसीआर और उत्तर भारत के राज्यों में टाटा संपन्न मसाले सफलता से बाजार में प्रस्तुत किए गए।
  • टाटा संपन्न दालों ने 70 प्रतिशत से अधिक वॉल्यूम वृद्धि दर्ज की और प्रांतों में भी वृद्धि हासिल की है।

इन्डस्ट्री एसेन्शल्स

  • सोडा एश की वैश्विक मांग और आपूर्ति का संतुलन बना हुआ है, माल भाड़े की दरें कम हुई हैं।
  • मगड़ी के परिचालन में प्रदर्शन सुधार जारी रहा है, लागतें कम हुई हैं और मार्जिन अच्छे हुए हैं।
  • यूके में स्टीम टर्बाइन पूरी तरह कार्यरत बन गई है तथा आगे और परिचालनीय सुधारों पर ध्यान केन्द्रित किये हुए है

कृषि एसेन्शल्स

  • यूरिआ और जटिल उर्वरकों की मांग में वृद्धि
  • यूरिआ का उत्पादन अपेक्षा अनुसार
  • टाटा पारस 20:20 को बाज़ार से अच्छा प्रतिभाव मिलना जारी ।