टाटा सन्स

टाटा सन्स मुख्य परिचालित टाटा कंपनियों के प्रमोटर हैं तथा इन कंपनियों में महत्वपूर्ण हिस्सेदारी रखते हैं। टाटा कंपनियों को आमतौर पर टाटा समूह के नाम से जाना जाता है और टाटा सन्स के अध्यक्ष टाटा समूह के अध्यक्ष भी होते हैं।

टाटा सन्स के लगभग 66 प्रतिशत इक्विटी शेयरों पर टाटा परिवार के सदस्यों द्वारा प्रदत्त धन से संचालित परोपकारी ट्रस्टों का अधिकार है। इनमें से सबसे बड़ा ट्रस्ट है सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट और सर रतन टाटा ट्रस्ट, जिनकी स्थापना संस्थापक श्री जमशेदजी नसरवानजी टाटा के पुत्रों द्वारा की गई।

प्रोफाइल पढ़िये

साक्षात्कार और कहानियां
टाटा 150 लोगो के पीछे निहित विचार

टाटा का लोगो उस विश्वास का प्रतीक है जिसे समूह ने अपने 150 वर्षों की सेवा में हासिल किया है और यह इसके शानदार कल के विजन को अभिव्यक्त करता है