टाटा पावर

महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय मौजूदगी के साथ टाटा पावर भारत की सबसे बड़ी एकीकृत ऊर्जा कंपनी है। भारत में कंपनी की स्थापित उत्पादन क्षमता 10,496 MW है और ईंधन एवं लॉजिस्टिक्स, उत्पादन (ताप, जलविद्युत, सौर और पवन ऊर्जा), पारेषण, वितरण और व्यापार जैसे ऊर्जा क्षेत्र के सभी खंडों में इसकी मौजूदगी है। भारत में ऊर्जा के उत्पादन, पारेषण और वितरण में इसकी सफल सार्वजनिक-निजी भागीदारी रही है, जैसे उत्तरी दिल्ली में बिजली पहुंचाने के लिए टाटा पावर डेल्ही डिस्ट्रीब्यूशन का दिल्ली विद्युत बोर्ड के साथ, भूटान के ताला हाइड्रो प्लांट की बिजली को दिल्ली तक लाने के लिए पावरलिंक ट्रांसमिशन का पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के साथ और झारखंड में 1,050 MW मेगा पावर प्रॉजेक्ट के लिए मैथन पावर का दामोदर घाटी निगम के साथ साझेदारी। यह भारत में नवीकरणीय ऊर्जा की सबसे बड़ी कंपनियों में एक है और इसने गुजरात के मुंद्रा में 4000 MW की क्षमता वाला देश का पहला अल्ट्रा मेगा पावर प्रॉजेक्ट विकसित किया है जो सुपर-क्रिटिकल तकनीक पर आधारित है।

प्रोफाइल पढ़िये

साक्षात्कार और कहानियां
सुरक्षा के लिए एक जुनून

टाटा पावर ने अपने प्रतिदिन संचालनों में ‘शून्य हानि’ का लक्ष्य हासिल करने में उत्कृष्टता से भी अधिक परिणाम प्राप्त किए हैं