अप्रैल 2016 | प्रियंका सूद

एक स्मार्ट चाल

स्मार्ट टेक के साथ स्टाइल व क्लासिक लालित्य को मिला कर, टाटा ने अपनी जारी की गयी स्मार्टघड़ी के लिए बाज़ार में विशिष्ट स्थान बनाया है - टाइटन जक्स्ट

गिज़्मो दुनिया में हमेशा से एक टेक द्वारा दूसरे को खाने वाला परिदृष्य रहा है। पहने जाने वाले टेक ने स्मार्टघड़ियों के साथ टाइमपीस बाज़ार में अब एक हलचल पैदा कर दी है जो चाय बनाने के अलावा कुछ भी कर सकती हैं। अपने टाइमपीस क्षेत्र में इस चुनौती को परे ढ़केलते हुए – दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी घड़ी निर्माता – टाइटन कंपनी ने स्मार्टघड़ी को एक ऐसी विशिष्ट एसेसरी में पुनःगढ़ा है जो स्मार्ट व स्टाइलिश दोनो है।

टाइटन कंपनी के एमडी, भास्कर भट; टाइटन कंपनी के घड़ियों व एसेसरीज़ के सीईओ, एस रविकांत; तथा हेवलेट पेकार्ड के वियरेबुल व स्मार्ट प्लेटफार्म के महाप्रबंधक, भारत की सबसे स्टाइलिश स्मार्टघड़ी- जक्स्ट के लॉन्च पर

इस वर्ष जनवरी में, टाइटन ने जक्स्ट स्मार्टघड़ी को वियरेबुल टेक बाज़ार में अपनी प्रविष्टि के रूप में उतारा। “ऐसे लोगों का सेगमेंट बढ़ रहा है जिनको लगातार जुड़े रहने की जरूरत महसूस होती है। जक्स्ट वही प्रस्ताव करती है,” टाइटन के घड़ियों व एसेसरीज़ के सीईओ, एस रविकांत कहते हैं।

अंग्रेजी शब्द (जक्स्टापोस, हिन्दी अर्थ मिलाकर) से अपना नाम हासिल करने वाली जक्स्ट एक क्लासिक टाइमपीस व विध्वंसक नवाचार के मेल का प्रतिनिधित्व करती है। “यह स्मार्टघड़ी उन ग्राहकों की पसंद के अनुकूल बनायी गयी है जो पारंपरिक चमड़े के पट्टे वाली घड़ी के साथ जुड़ी स्मार्ट क्षमताएं पसंद करते हैं,” श्री कांत बताते हैं।

एचपी के साथ साझेदारी
स्मार्टघड़ी सेगमेंट में एप्पल, मोटारोला तथा एलजी जैसी टेक कंपनियों का दबदबा रहा है। टेक के बहाव में उफान को देखते हुए, टाइटन के दिग्गजों ने एक वर्ष पहले यह निर्णय लिया कि इस क्षेत्र में दाखिल होना एक रोमांचक चुनौती होगी तथा नए व मौजूदा ग्राहकों में रुचि जगाने का एक तरीका होगा, विशेष रूप से युवा पीढ़ी के साथ जिनमें से अधिकांश ने घड़ियां पहननी बंद कर दी हैं।

स्मार्ट टेक घटक को सही तरीक से हासिल करने के लिए टाइटन ने प्रौद्योगिकी के बड़े नाम हेवलेट पेकार्ड (एचपी) के साथ साझीदारी की, जो कि यह सुनिश्चित करने के लिए एक रणनीतिक चाल थी कि जक्स्ट की टेक बाज़ार की अन्य घड़ियों से मेल खाती हो। प्रौद्योगिकी के लिए एचपी के साथ साझीदारी करना एक से अधिक मामलों में लाभकारी रही है, क्योंकि एचपी यूके, यूएसए तथा कनाडा जैसे अंतरराष्ट्रीय बाज़ारों में इस घड़ी की बिक्री करेगा।

टाइटन जक्स्ट - स्मार्ट क्षमताओं के साथ एक पारंपरिक चमड़े के पट्टे वाली घड़ी

ये पहले एक घड़ी है
एक घड़ी कंपनी होने के नाते, टाइटन का स्मार्टघड़ी का विजन, मौजूदा उत्पादों से भिन्न है। अपने जैसे दूसरे लोगों से भिन्न, जक्स्ट के पास एक समांतर कार्यशील एनालॉग के साथ-साथ स्मार्टघड़ी मॉड्यूल है। इसका अर्थ है कि बैटरी या कनेक्टिविटी के न होने पर, स्मार्ट विशेषताओं के फंक्शन न करने पर भी यह काम करती रहती है। “अधिकांश स्मार्टघड़ियां, आपकी कलाई पर रखी ऐसी डिवाइस जैसी होती हैं। इसके विपरीत जक्स्ट एक अच्छी दिखने वाली क्लासिक घड़ी है जो कि स्मार्ट है,” श्री कांत कहते हैं।

गहन बाज़ार शोध तथा आर&डी के माध्यम से यह सुनिश्चित किया गया कि जक्स्ट दूसरी स्मार्टघड़ियों से अलग दिखे। प्रयोक्ताओं के साथ घंटों की प्रतिक्रिया तथा सलाह ने उन विशेषताओं के निर्धारण में सहायता की जिनको जरूरी समझा गया। जक्स्ट में छोटा मधुमक्खी के मधुकोश जैसा डायल, 3डी सूचकांक तथा चमड़े का पट्टा है। इस घड़ी को स्मार्टघड़ी के साथ पेयर किया जा सकता है। यह प्रयोक्ता को एक दिन में चले गए कदमों की संख्या भी बताती है तथा ईमेल, संदेशों व कॉल के लिए चेतावनी प्रदान करती है।

वैश्विक बाज़ार
इस टाइमपीस को बेचने के लिए टाइटन बेहद मजबूत साख तथा मजबूत रिटेल फूटप्रिंट पर निर्भर कर रही है।“हमारे पास वफादार ग्राहकों का एक मजबूत आधार है। इसके अलावा देश में हमारे वितरण नेटवर्क को कोई पछाड़ नहीं सकता है,” श्री कांत कहते हैं।

पूरे भारत में जेक्स्ट को प्रस्तुत करने के लिए टाइटन तैयार हो रही है। जेक्स्ट, 400 से अधिक अग्रणी वर्ल्ड ऑफ टाइटन स्टोरों तथा देश के मल्टी-ब्रांड आउटलेट पर उपलब्ध हैं। श्री कांत समझाते हैं: “क्योंकि स्मार्टघड़ी को बेचना भी एक स्मार्ट काम है इसलिए हम अपने स्टोर कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने में भी भारी निवेश कर रहे हैं।”

इस उत्पाद को उभारने के लिए टाइटन सोशल मीडिया का उपयोग भी कर रही है। #SmartIsNowStunning शीर्षक वाला पूर्ण विकसित मार्केटिंग अभियान चर्चा पैदा कर रहा है। बॉलीवुड निदेशक कबीर खान, संगीतकार प्रीतम तथा अभिनेता वीर दास को लेकर दो टीवी विज्ञापन बनाए गए हैं जो जक्स्ट के गुणों को प्रस्तुत करते हैं।“हमारे लिए, संभावित खरीदार वे हैं जो सोशल मीडिया पर काफी समय व्यतीत करते हैं तथा कनेक्टेड रहना पसंद करते हैं। इसीलिए हमने इस उत्पाद को सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर जारी करना चुना,” श्री कांत कहते हैं।

वर्तमान में वियरेबुल बाज़ार में 65 प्रतिशत हिस्सेदारी यूएस की है तथा यह कुछ समय के लिए अग्रणी बाज़ार बना रहेगा, इसीलिए टाइटन जक्स्ट को यूएस तथा दूसरे विकसित बाज़ारों में ले जा रही है। “बेहतर तकनीकी कौशलों से लैस मजबूत उपस्थिति वाले ब्राडों को देखते हुए, उन बाज़ारों को पकड़ना निश्चित ही चुनौतीपूर्ण होगा,” श्री कांत स्वीकार करते हैं।

किफायती प्रौद्योगिकी
अपने साथियों की तुलना में अधिक किफायती होने के कारण इसके बाज़ार, ग्राहकों की अच्छी प्रतिक्रिया की आशा रखते हैं। “अगले वर्ष, हम इस स्मार्टघड़ी को पांच से छः और देशों में जारी करेंगे।,” श्री कांत कहते हैं।

एक वर्ल्ड ऑफ टाइटन स्टोर में प्रदर्शित टाइटन जेक्स्ट

टाइटन की टीम के घड़ियों के प्रति दीर्घकालीन उत्पादों वाले नजरिये से सहायता मिलती है। “हम ऐसी क्लासिकल घड़ियां बनाने का लक्ष्य करते हैं जो स्टाइल में बाहर नहीं जाती हैं। दूसरी ओर प्रौद्योगिकी बहुत भिन्न है; यह तेजी से पुरानी हो जाती है। उसके साथ काम करना एक चुनौती हो सकती है,” श्री कांत आगे जोड़ते हैं। कंपनी अपने दूसरे तेजी से बिकने वाले ब्रांड जैसे फास्ट्रैक, सोनाटा, ज़ाइलस आदि में प्रौद्योगिकी को शामिल करने के अवसर तलाश रही है। जेक्स्ट लॉन्च के साथ कंपनी को विश्वास है कि यह लोगों की कलाइयों पर घड़ियां वापस लाएगी।

अंतरराष्ट्रीय डेटा कारपोरेशन वर्ल्डवाइड क्वाटरली वियरेबुल डिवाइस ट्रैकर के अनुसार 2016 में अंतरराष्ट्रीय वियरेबुल डिवाइस बाज़ार 111.1 मिलियन इकाइयों की शिपिंग हुई जो कि 2015 के 80 मिलियन इकाइयों की तुलना में 44.4 प्रतिशत की मजबूत बढ़त को दर्शाता है। “भारत में स्मार्टघड़ियों के बाज़ार का आकार वैश्विक बाज़ार का 0.5 प्रतिशत होने की संभावना है तथा शुरुआती प्रवेश करने वालों के लिए इसमें जबरदस्त संभावनाएं हैं,” श्री कांत जानकारी देते हैं।

स्मार्टघड़ी तथा वियरेबुल डिवाइस श्रेणी, कंपनी के साथ उपभोक्ताओं के संवाद तथा अपेक्षाओं को बदल कर रख देगी। तथा टाइटन इन चुनौतियों का सामना करने व सभी अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए तैयार है।