अगस्त 14, 2017

टाटा पावर ने वित्तीय वर्ष 2017-18 की पहली तिमाही के परिणामों की घोषणा की; मजबूत तिमाही दर्ज किया

  • कोयला कंपनियों, नवीकरणीय व्यवसाय के मजबूत प्रदर्शन तथा समग्र रूप से अच्छे परिचालन प्रदर्शन के कारण वित्तीय वर्ष 2018 की पहली तिमाही में समेकित पीएटी 126 प्रतिशत बढ़ कर रु.164 करोड़ हो गया। वित्तीय वर्ष 2018 की पहली तिमाही का समेकित राजस्व* 2 प्रतिशत बढ़ कर रु.6,725 करोड़ हो गया, जिसका मुख्य कारण डब्लूआरईपीएल का राजस्व रहा।
  • वित्तीय वर्ष 2018 की पहली तिमाही में रु.2,514 करोड़ का समेकित ईबीआईटीडीए हासिल हुआ, जो कि वित्तीय वर्ष 2017 की पहली तिमाही से 40 प्रतिशत अधिक है। पिछल वर्ष की समान अवधि के रु.1,363 करोड़ की तुलना में समेकित परिचालन लाभ 16 प्रतिशत बढ़ कर रु.1,587 करोड़ हो गया, जो मजबूत परिचालन प्रदर्शन का प्रतिबिंब है।
  • इंडोनेशियन कोल कंपनीस, टाटा पावर सोलर, वालव्हान रेनेवेबल एनर्जी प्रा. (डब्लूआरईपीएल). टाटा पावर सोलर और टाटा पावर रेनेवेबल एनर्जी (टीपीआरईएल) ने वित्तीय वर्ष 2017 की पहली तिमाही की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की पहली तिमाही मजबूत वृद्धि और परिचालन प्रदर्शन दर्ज किया। अन्य व्यवसाय जैसे, एमपीएल, टीपीडीडीएल तथा दूसरों ने ने पिचले वर्ष की इस तिमाही की तुलना में अधिक ऊंचा लाभ दर्ज किया।

संपादकीय सारांश:

मुख्य वित्तीय झलकियाँ: वर्ष 2018 की पहली तिमाही बनाम वर्ष 2017 की पहली तिमाही

  • समेकित पीएटी पिछले साल के रु.72 करोड़ की तुलना में 126 प्रतिशत अधिक रहते हुए रु.164 करोड़ रहा
  • स्टैंडअलोन पीएटी रु.147 करोड़ की तुलना में 28 प्रतिशत बढ़ कर रु.188 करोड़ हो गया
  • नवीकरणीय व्यवसाय (समेकित) पीएटी रु. 26 करोड़ की तुलना में रु.109 करोड़ रहा
  • समेकित राजस्व* रु.6,566 करोड़ की तुलना में 2 प्रतिशत बढ़ कर रु.6,725 करोड़ रहा
  • समेकित पीएटी पिछले साल के रु.72 करोड़ की तुलना में 126 प्रतिशत अधिक रहते हुए रु.164 करोड़ रहा
  • स्टैंडअलोन राजस्व* रु.1,754 करोड़ की तुलना में 9 प्रतिशत बढ़ कर रु.1,916 रहा

प्रमुख व्यवसाय व वृद्धि झलकियां:

  • टाटा पावर को बिज़नेस वर्ल्ड द्वारा इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में सबसे अधिक सम्मानित कंपनी के रूप में रैंक किया गया।
  • अपनी सहायक कंपनियों के साथ टाटा पावर ने अपने सभी बिजली संयंत्रों से 12,405 एमयू बिजली का उत्पादन हासिल किया है।
  • टाटा पावर सोलर तथा टाटा पावर रेनेवेबल एनर्जी ने वर्ष 2017 की पहली तिमाही की तुलना में मजबूत परिचालन वृद्धि दर्ज की है।
  • टाटा पावर की वितरण भुजा, टीपी अजमेर डिस्ट्रीब्यूशन ने अजमेर विद्युत वितरण निगम के वितरण क्षेत्र का 01 जुलाई 2017 से अधिग्रहण किया।
  • वर्ष 2018 की पहली तिमाही में टाटा पावर की नवीकरणीय क्षमता 2,000मेगावॉट से अधिक हो गयी और हरित पोर्टफोलियो ने 3,000मेगावॉट की सीमा को पार किया
  • 186 मेगावॉट का जॉर्जिया हाइड्रो प्रोजेक्ट रिकॉर्ड समय में 1 व 2 अगस्त, 2017 को सिंक्रोनाइज़ किया गया। स्टेबलाइजेशन प्रक्रियाएं शुरु कर दी गयी हैं।
  • टाटा पावर क्लब एनर्जी ने वर्ष 2018 की पहली तिमाही में अपने परिचालन के 10 वर्ष पूरे किए; इसने पिछले दशक में देश में 15 मिलियन लोगों को संवेदनशील करते हुए 21 मिलियन एमयू बिजली की बचत की।
  • टाटा पावर स्ट्रैटजिक इंजीनियरिंग डिवीजन (टाटा पावर एसईडी) ने भारत सरकार के गृह मंत्रालय से सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के लिए व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली (सीआईबीएमएस) की आपूर्ति के लिए प्रतिष्ठित एक पायलट प्रोजेक्ट का ऑर्डर हासिल किया है।
  • टाटा पावर कौशल विकास संस्थान (टीपीएसडीआई) द्वारा 2020 तक 54,000 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित करने की योजना की घोषणा की है।

राष्ट्रीय: भारत की सबसे बड़ी एकीकृत पावर कंपनी, टाटा पावर ने 30 जून 2017 को समाप्त हुई तिमाही के लिए वर्ष 2017 की पहली तिमाही की तलना में पीएटी में 126 की वृद्धि और स्टैंडअलोन पीएटी में 28 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करते हुए अपने वित्तीय परिणामों की घोषणा की।

प्रदर्शन झलकियां: समेकित

  • समेकित आधार पर, टाटा पावर समूह ने पिछले वर्ष के रु.6,566 करोड़ की तुलना में वर्ष 2018 की पहली तिमाही में 2 प्रतिशत अधिक रु.6,725 करोड़ के राजस्व* की घोषणा की है। इसका मुख्य कारण डब्लूआरईपीएल राजस्व का योग है।
  • समेकित पीएटी, वर्ष 2017 की पहली तिमाही के रु.72 करोड़ की तुलना में 126 प्रतिशत बढ़ कर रु.164 करोड़ हो गया, जिसका मुख्य कारण इंडोनेशियाई कोयला खदानों, नवीकरणीय व्यवसाय में मजबूत प्रदर्शन और एमपीएल, टाटा पावर सोलर, टीपीडीडीएल, पावरलिंक्स तथा दूसरी भारतीय कंपनियों में स्थिर परिचालन रहे।
  • समेकित पीएटी पर वर्ष 2017 की पहली तिमाही की तुलना में लगभग रु.120 करोड़ के उच्च कर प्रावधान का प्रभाव पड़ा।
  • सीजीपीएल पर उच्च कोयला मूल्यों का भी प्रभाव पड़ा जो कि आंशिक रूप से एमटीएम मार्जिन से कम हो गया। इस प्रदर्शन पर नोटिफाइड टैरिफ में कमी से भी प्रभाव पड़ा, जो अनुवर्ती तिमाहियों में आएगा।

प्रदर्शन झलकियां: स्टैंडअलोन

  • 30 जून 2017 को समाप्त हुई तिमाही के लिए स्टैंडअलोन राजस्व* रु.1,916 करोड़ रहा जो कि रु.1,754 करोड़ की तुलना में 9 प्रतिशत अधिक रहा, जिसका मुख्य कारण मुंबई ऑपरेशन रहा। 
  • परिचालन से हासिल लाभ रु.592 करोड़ था, जो पिछले वर्ष की संबंधित तिमाही की राशि रु.526 करोड़ की तुलना में 12 प्रतिशत अधिक रहा।
  • पीएटी रु.188 करोड़ रहा जो कि पिछले वर्ष इसी अवधि के रु.147 करोड़ से 28 प्रतिशत अधिक रहा

कंपनी के प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए अनिल सरदाना, सीईओ तथा प्रबंध निदेशक, टाटा पावर ने कहा, “तिमाही के दौरान कंपनी ने परिचालन उत्कृष्टता के समर्थन से हासिल मजबूत प्रदर्शन दर्ज किया। टाटा पावर सोलर, डब्लूआरईपीएल तथा टाटा पावर रेनेवेबल एनर्जी ने उत्कृष्ट प्रदर्शन पेश किया और अपने लाभों में काफी उछाल रिपोर्ट किया। कंपनी ने अपनी गैर-जीवाश्म ईंधन क्षमता के निर्माण को 3,000 मेगावॉट से आगे ले जाकर अपने हरित पदचिह्नों को काफी बढाया है।

हाल के वर्षों में पावर क्षेत्र में चुनौतीपूर्ण वातावरण के बावजूद कंपनी ने अपनी अंतरराष्ट्रीय उपस्थिति का विस्तार किया है और चुनिंदा अंतरराष्ट्रीय भौगोलिक क्षेत्रों में व्यावहारिक व्यापार के अवसरों की तलाश जारी रखी है। कंपनी, हितधारकों के मूल्य को बढ़ाने के अपने प्रयास में अपने परिचालन निष्पादन तथा वृद्धि प्रक्रियाओं में सुधार तथा उनके एकीकरण के लिए अवसरों का मूल्यांकन करती रहती है।