अक्तूबर 2016

विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों के लिए टाइटाइन की सहायता

अपनी शुरुआत से ही टाइटन कंपनी ने विशिष्ट सक्षम कर्मचारियों के लिए समान करियर अवसर उपलब्ध कराए हैं और साथ ही यह सुनिश्चित किया है कि वे अपने कार्यस्थल में अन्य कर्मचारियों की तरह ही सहज महसूस करें।

टाइटन आई प्लस स्टोर का एक कर्मचारी श्रीनिवास टाइटन के लिए काम करने वाले 135 विशिष्ट सक्षम लोगों में से एक हैं

श्रीनिवास पिछले पांच साल से बंगलोर के एक टाइटन आई प्लस स्टोर में कैशियर के पद पर काम कर रहे हैं। तीन बार इंप्रेशन रीजनल अवार्ड जीतकर वह अपनी सफलता का श्रेय टाइटन कंपनी और अपने सहकर्मियों को देते हैं। श्रीनिवास उस टाइटन कंपनी के लिए काम करने वाले 135 विशिष्ट सक्षम लोगों में से एक हैं जिसके लोक कार्यव्यवहार विविधता और समावेशन (डी&आई) के सम्मान के सिद्धांत पर आधारित हैं। अपने शुरुआती सालों में भी और बिना विशिष्ट (डी&आई) नीति के रहते, टाइटन प्रबंधन ने तमिलनाडु के कृष्णागिरि जिले के सबसे पिछड़े इलाके (जिसे तब धर्मपुरी कहा जाता था) से युवाओं की पहचान कर उनकी भर्ती की। टाइटन के समावेशी कार्यसूची की रुझान कंपनी के शुरुआती वर्षों में तात्कालीन चेयरमैन जेआरडी टाटा के दौरे के दौरान तय हो गई थी। वहां कार्यरत विशिष्ट सक्षमता प्राप्त युवाओं के मिलने के बाद उन्होंने प्रबंधन से कहा कि वे इस बात को सुनिश्चित करें कि उनके साथ बाकी सामान्य कर्मचारियों की तरह ही व्यवहार किया जाए।

तब से, उन संगठनों के साथ कंपनी का घनिष्ठ जुड़ाव हुआ जो विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों के लिए रोजगार के अवसरों का अधिकतम लाभ उठाने में उनकी मदद करते हैं। ‘चाहे यह विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों की बात हो या सकारात्मक कार्य की, विविध प्रकारों का समावेशन’ टाइटन ने इसे अपनी कार्यशैली में शामिल किया। अपने लोक कार्य-व्यवहार के महत्वपूर्ण पहलू के रूप में यह कई सालों तक कंपनी के अंदर से और बाहर से भी डी&आई पर केंद्रित रहा है’, टाइटन में महाप्रबंधक और कॉरपोरेट सस्टेनैबिलिटी के प्रमुख एनई श्रीधर कहते हैं।

सबके लिए समान अवसर
टाइटन के विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारियों में शारीरिक रूप से चुनौती प्राप्त ऐसे लोग शामिल हैं जिन्हें सुनने, बोलने या देखने में समस्या है। ये कर्मचारी कंपनी के सभी संयंत्रों में उन पदों पर काम करते हैं जो उनके लिए उपयुक्त हैं। वे घड़ी की पैकिंग जैसे असेम्बली ऑपरेशनों में काम करते हैं, मशीनों पर काम करते हैं और कुछ हाउसकीपिंग के काम में भी संलग्न हैं। प्रबंधन ने कार्यस्थल समाधान अपनाएं हैं जैसे कि उनकी सहूलियत के लिए कार्यस्थलों पर हैंडरेल के व्यवस्था।

अक्षमता के साथ जीने वाले लोग टाइटन के कार्यबल के अभिन्न अंग हैं, देहरादूर कारखाने के कर्मचारी

विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारियों को वे सारे लाभ और करियर विकास के अवसर उपलब्ध हैं जो कंपनी के अन्य कर्मियों को उपलब्ध हैं। वर्षों के दौरान उनमें से बहुतों ने कंपनी में अपना विकास किया है और अपने काम के लिए सराहे गए हैं। कुछ साल पहले, विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारियों के जरिए कंपनी प्रबंधन ने समावेशन पर नए सिरे से अपना ध्यान केंद्रित किया। उनकी नियुक्ति की गई और उन्हें वाच टेक्नीशियनों अथवा रिटेल स्टोर्स के कैशियरों के पदों के लिए प्रशिक्षित किया गया। टाइटन ने ऐसे वेंडर्स के साथ भी काम किए हैं जो अपने वाच स्ट्रैपिंग के कामों के लिए केवल विशिष्ट सक्षमता प्राप्त युवाओं की भर्ती करते हैं।

अपने व्यापक डी&आई फोकस के तहत टाइटन ने विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों की सहायता के लिए कई कदम उठाए हैं। स्पैस्टिक बच्चों के लिए ग्रामीण व्यावसायिक पेशों के लिए इसने स्पैस्टिक्स सोसाइटी के साथ काम किया है। इसके अलवा यह प्रतिष्ठित एनजीओ के जरिए यह कौशल विकास और नियोजनीयता प्रशिक्षण में सहायता देता है। विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों के लिए एक्सेसिबिलिटी इंडेक्स के निर्माण में भी टाइटन ने सक्रिय भूमिका निभाई है, जिसकी शुरुआत भारत सरकार द्वारा की गई।

डी&आई पर औपचारिक नीति के निर्माण की दिशा में भी कंपनी काम कर रही है। पहला कदम रहा है उन 50 पदों के निर्धारण के लिए प्रसिद्ध एनजीओ के साथ काम करना जिससे उचित कार्यस्थल समाधानों के साथ विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों के लिए काम के अवसर जुटाने में मदद मिलेगी।

जेआरडी टाटा, टाटा संस के पूर्व अध्यक्ष टाइटन कंपनी के विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारियों के साथ। उनकी बायीं ओर: टाइटन कंपनी के पूर्व अध्यक्ष एएल मुदलियार तथा टाटा संस के पूर्व निदेशक जेजे भाभा। उनकी दायीं ओर: टाइटन कंपनी के पूर्व प्रबंध निदेशक एक्सएस देसाई

 

पिछले 15 साल में ऐसे संकेंद्रित प्रयासों के साथ इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि टाइटन को विशिष्ट सक्षमता प्राप्त लोगों के साथ काम करने के लिए चार बार राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। टाइटन की डी&आई यात्राएं सही प्रतिभा और सफलता दिखाती हैं।

उचित अवसरों की उपलब्धता

  • सालों से विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारियों ने टाइटन के विनिर्माण संयंत्रों, स्टोर्स में काम किए हैं और कॉरपोरेट भूमिकाएं भी निभाई हैं।
  • सत्ताइस विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारी देहरादून स्थित टाइटन घडियों की असेम्बली यूनिट में काम करते हैं। 2005-06 में विशिष्ट सक्षमता प्राप्त कर्मचारियों की भर्ती के लिए यूनिट ने राज्य के मुख्यमंत्री से राज्य स्तरीय पुरस्कार ग्रहण किया है।
  • 2015 में टाइटन द्वारा सहायता प्राप्त गैर-लाभकारी संगठनों ने 110 युवाओं को प्रशिक्षित किया है जिन्हें विभिन्न संगठनों में रोजगार प्राप्त हुए।