अप्रैल 2016

लोगों को प्राथमिकता

tata.com उन चारों कंपनियों के सीएचआरओ से बातचीत करता है जिन्हें एऑन सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता पुरस्कार 2016 से सम्मानित किया गया

कर्मचारी हितैषी कार्य परिवेश तैयार करने की टाटा कंपनियों प्रतिबद्धता की अनदेखी नहीं की गई। टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस, टाटा ऑटोकॉम्प, टाटा केमिकल्स और टाटा कम्यूनिकेशंस को हाल ही में एऑन सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता पुरस्कार से नवाजा गया। अलग-अलग काम-काज वाली ये कंपनियां टाटा की मूल्यों के प्रति प्रतिबद्ध रही हैं जहां ‘कर्मचारी को सर्वधिक महत्व’ दिया जाता है। tata.com इन चारों कंपनियों के मुख्य मानव संसाधन अधिकारियों से यह समझने के लिए बात करते हैं कि कौन सी बातें हैं जिन्होंने इन्हें सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता बनाया।

'संलग्नता या सहभागिता दो-तरफी प्रक्रिया है'

‘संलग्नता या सहभागिता संगठन तथा कर्मचारी के बीच की दोतरफा प्रक्रिया होती है। इस संलग्नता या सहभागिता के प्रथम स्तर पर कर्मचारी के पास अपना करियर या पेशा होता है और संलग्नता या सहभागिता के द्वितीय स्तर पर कर्मचारी अपने संगठन के प्रति भावना रखता है। टाटा एआईए लाइफ स्पष्ट उद्देश्य और एक ऐसा कार्य-परिवेश मुहैया कराता है जिसमें हमारे कर्मचारियों के महत्व को स्वीकृति मिलती है और एक उच्च कार्यनिष्पादन युक्त कार्य-संस्कृति के निर्माण का प्रयास किया जाता है।’
क्रिस्टील भेसानिया, वरिष्ठ उपाध्यक्ष तथा मानव संसाधन प्रमुख, टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस

और पढ़ें

'हमने हर प्रकार के संचार का उपयोग किया'

‘वरिष्ठ प्रबंधकों, बिजनस इकाइयों के प्रमुखों और सभी संयंत्र प्रबंधकों के ‘व्हाट्सएप’ ग्रुप सहित हमने हर प्रकार के संचार का उपयोग किया। इससे कर्मचारियों को निकट लाने उनकी सहभागिता (संलग्नता) बढ़ाने में मदद मिली। हमने अपने प्रबंधकों और लाइन प्रमुखों को लाइन में उनके संवाद को समुन्नत बनाने के लिए भी प्रोत्साहित किया। इस सबसे हम महज तीन साल में इंडस्ट्री के निचले पायदान से उठकर शीर्ष स्थान पर पहुंच पाए।’
सीबा सत्पथी, अध्यक्ष(लोग और सहभागिता) तथा सीईचआरओ, टाटा ऑटोकॉम्प सिस्टम्स

और पढ़ें

'लंबे वक्त तक एक श्रेष्ठ नियोक्ता बने रहेंगे'

‘हम समझते हैं कि बाहरी जगत लगातार परिवर्तनशील है और अगर हम विरल राह चुनते हैं तो इसमें नई चुनौतियां उभरेंगी। तथापि, हम आश्वस्त हैं कि हमारे अनवरत प्रयासों, कार्यप्रणाली को सही करने की तत्परता, और एक अधिक लोक-केंद्रित संगठनात्मक संस्कृति बनाने पर लगातार ध्यान देकर, हम लंबे वक्त तक एक श्रेष्ठ नियोक्ता बने रहेंगे।’
आर नंदा, सीएचआरओ, टाटा केमिकल्स

और पढ़ें

'काम करने के लिए श्रेष्ठ परिवेश का निर्माण हमारे लिए महत्वपूर्ण लक्ष्य रहा है'

‘संपूर्ण प्रबंधन तथा साथ ही हमारे 9000 कर्मचारियों की प्रतिबद्धता के साथ अच्छे कार्य-परिवेश का निर्माण हमारे लिए कुछ सालों से एक महत्वपूर्ण अनिवार्यता रही है। भारत में श्रेष्ठ 25 नियोक्ता के रूप में पहचान बनाना हमारे विजन और व्यवसाय नीति के साथ अपनी प्रतिभा को कायम रखने और उसका संवर्धने और कर्मचारियों को जोड़े रखने केक सुगठित और केन्द्रित प्रयास का साक्ष्य है।’
आदेश गोयल, सीएचआरओ, टाटा कंम्यूनिकेशंस

और पढें