रोनन सेन

रोनन सेन, टाटा सन्स के समिति में एक स्वतंत्र निदेशक हैं।

सेन, 2004 से 2009 तक युनाइटेड स्टेट्स में भारत के राजदूत थे। वे अन्य देशों जैसे मेक्सिको (1991-92) में, रशिया (1992-98) में और जर्मनी (1998-2002) में भी बतौर भारतीय राजदूत फर्ज अदा कर चुके हैं तथा युनाइटेड किंग्डम (2002-04) में बतौर हाइ कमिश्नर सेवा अदा की है। 1986 से 1991 तक वे तत्कालीन प्रधानमंत्रियों के विदेश एवं रक्षा नीति सलाहकार थे और कई राष्ट्राध्यक्षों या सरकार के साथ मंत्रणा हेतु प्रधानमंत्री के विशेष दूत के रूप में भी कर्तव्य अदा कर चुके हैं।

सेन 1966 में भारतीय विदेश सेवा (इन्डियन फोरेन सर्विस–आइएफएस) से जुड़े। 1968 से 1985 के बीच उन्होंने पूर्व युएसएसआर, युनाइटेड स्टेट्स, और बांग्लादेश में भारतीय मिशनों में अपनी सेवा प्रदान की। उन्होंने डिपार्टमेन्ट ऑफ अटॉमिक एनर्जी के उप सचिव और एटमिक एनर्जी कमिशन के सचिव के तौर पर तथा विदेशी मामलों के मंत्रालय के उप सचिव एवं संयुक्त सचिव के रूप में भी सेवा अदा की है। वे छः खंडों में हुई लगभग 180 द्विपक्षीय तथा बहुपक्षीय शिखर बैठकों में हिस्सा ले चुके हैं।

सेन, टाटा सन्स के समिति में 2010 से 2012 तक बतौर ग़ैर कार्यकारी स्वतंत्र निदेशक का जिम्मा भी संभाल चुके हैं।