जुलाई 2015 | कल्पना शाह

सफलता का समय

टाइटन कंपनी लगभग दो दशकों से मध्य पूर्व में पसंदीदा घड़ी ब्रांडों में शुमार रही है। भारतीय समुदाय के लोगों से आरंभिक बढ़ावा मिलने के बाद इस ब्रांड को अत्यंत प्रतियोगी गल्फ कॉपरेशन काउंसिल (GCC) बाजार में अपने पैर जमाने में मदद मिली और फिर टाइटन ने अपनी अपील में वृद्धि कर उपभोक्ताओं का पसंदीदा ब्रांड बन गया।

संख्याएं टाइटन की सफलता की कहानी बयां करती हैं। MENA में इसके 19 ख़ास आउटलेट्स हैं तथा कतर के शीर्ष मॉलों में 11 कियॉस्क हैं और बहरीन में सात स्टोर्स हैं। टाइटन कंपनी GCC देशों में 900 मल्टी-ब्रांड प्रतिष्ठानों से अपनी घड़ियां तथा अन्य टाइमपीस बेचती है और साथ ही यह ई-कॉमर्स साइट्स के जरिए भी अपने उत्पाद बेचती है।

कंपनी के विकास में इसके विपणन प्रयास से काफी मदद मिली तथा स्थानीय सेल्स विज्ञापन अभियानों ने भी इसे गति प्रदान की। टाइटन अब मध्य पूर्व में अपनी मौजूदगी बढ़ाने और अफ्रीका में प्रसार के लिए इसे एक लॉन्च पैड के रूप में इस्तेमाल का लक्ष्य रख रहा है।

एचजी रघुनाथ, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, घड़ियों तथा ऐक्सेसरीज विभाग, टाइटन के विकास प्रक्षेप तथा MENA क्षेत्र में इसकी महत्वाकांक्षा के बारे में बात करते हैं।

बिक्री तथा लाभों के लिहाज से MENA क्षेत्र की तुलना टाइटन के लिए अन्य भूभागों से कैसे की जाती है?
हमने इस क्षेत्र में दो अंकों का विकास दर्ज किया है तथा लाभों में भी दुगने का इजाफा हुआ है। पिछले छह वर्षों में हमारे व्यवसाय का टर्नओवर दुगना हो गया है, मूल्य के लिहाज से MENA क्षेत्र का योगदान लगभग 10 फीसदी है। चूंकि मध्य पूर्व, खासकर दुबई एक अत्यंत उच्च प्रतियोगिता वाला बाजार है, इसलिए इस भूभाग में अधिक गुणात्मक प्रभाव रहा है। हमें अंतर्राष्ट्रीय ब्रांडों के साथ प्रतियोगिता करनी पड़ती है; हमें कुछ अलग और बेहतर होना पड़ता है। उत्कृष्टता की तलाश कंपनी के लोकाचारों में निहित है तथा ग्राहक की अपेक्षाएं आपको डिजाइन व सटीकता की चीजें सिखा जाती है। यह भारत में हम जो अनुभव करते हैं और जिनसे निपटते हैं, उसी के तरह है।

क्या इस क्षेत्र में बिक्री इसलिए अधिक है कि यहां रहने वाले भारतीय आपके उत्पाद खरीदते हैं?
यह अनुमान लगाना आसान है कि केवल भारतीय लोग ही टाइटन की घड़ियां खरीदते है; जो लंबे दौर के लिए सही थी, किसी ब्रांड को अपना विकल्प बनाना काफी समझ-बूझ वाला फैसला होता है न कि केवल देश के प्रति अपनी वफादारी दिखाना। विकल्पों के पीछे भागने वाले भारतीय क्यों टाइटन खरीदते हैं, इसको लेकर हमने सर्वेक्षण किए। उन सर्वेक्षणों में ब्रांड से जुड़ने के तीन कारणों का पता चला: प्रबल डिजाइन, उत्कृष्ट गुणवत्ता तथा शानदार मूल्य।

पिछले आठ वर्षों में यहां के स्थानीय लोगों ने भी टाइटन की खरीद करना आरंभ कर दिया है। जब स्थानीय लोग खरीददारी आरंभ करते हैं, तो यह इस क्षेत्र में ब्रांड के लिए सफलता की बात होती है। उत्पादों का मूल्य भी ऊपर जाता रहता है। जहां शुरुआत में हम $20-30 में बेच रहे थे, वहीं आज टाइटन की घड़ियों की औसत कीमत $80-90 है; जो इस ब्रांड के लिए एक अच्छा संकेत है। हमारे पास उप-ब्राडों का भी एक पोर्टफोलियो है और उनमें से सभी अच्छा कर रहे हैं।

क्या रिटेल पर जोर देने से फायदा हुआ?
इस क्षेत्र में रिटेल की उत्कृष्टता टाइटन की सफलता के लिए मुख्य कारण है। भारत की ही तरह मध्य पूर्व में भी हमारे पास मल्टी-ब्रांड आउटलेट्स तथा मॉल्स में स्टोर्स हैं। हाल के समय में यहां मॉल संस्कृति काफी तेजी से फली-फूली है और मॉलों की गुणवत्ता व आकार में भी कई गुना वृद्धि हुई है। मॉलों में टिकने के लिए आपमें प्रतिभा होनी चाहिए और आपको इसके लिए अधिकार प्राप्त करना होता है। साथ ही सही वितरकों को लेने का फैसला भी अहम होता है।

उपभोक्ता हमारी घड़ियों और शानदार आफ्टर-सेल्स सर्विस की तारीफ करते हैं, जिसने हमारी सफलता में एक अहम योगदान दिया है। यदि कोई घड़ी टूटती है या वह काम नहीं करती है, तब हम तीन चीजों में सुधार लाने के लिए तेजी से काम करते हैं: वह घड़ी, खरीददार को होने वाला बुरा एहसास तथा ब्रांड की प्रतिष्ठा।

मध्य पूर्व में आपके सबसे बड़ा प्रतियोगी कौन है?
हमारे विभन्न मूल्य बिंदुओं के लिए अलग-अलग प्रतियोगी हैं और कड़ी प्रतियोगिता है। पिछले कुछ वर्षों से हम अपने मूल्य क्लस्टर था श्रेणियों के कारण शीर्ष तीन ब्रांडों में शुमार रहे हैं।

क्या कोई डिजाइन या उत्पाद विनिर्देशन हैं जो इस क्षेत्र के अनोखी मांग से पैदा हुए हों?
हां; जहां हमारा डिजाइन स्टूडियो मजबूत है और यह अंतर्राष्ट्रीय गुणवत्ता वाला है, वहीं हमारे लिए यह अहम है कि हम स्टूडियो की क्षमता को वैश्विक डिजाइन आवश्यकताओं के अनुरूप बनाएं। हरेक उपभोक्ता की एक विशिष्ट आवश्यकता तथा मांग होती है, जो स्थानीय परिस्थिति तथा इस देश में चल रहे फैशन ट्रेंड पर निर्भर करती है। हम अपने डिजाइनरों को विभिन्न देशों में भेजते हैं, ताकि वे स्थानी लोगों के साथ बातचीत कर उसकी संस्कृति, पसंद, रुझानों, प्रवृत्तियों इत्यादि के बारे में समझ सकें। हमारे डिजाइनर अध्ययन करते हैं, विशेष डिजाइन तैयार करते हैं और यदि 80-85 फीसदी लोगों को डिजाइन पसंद आते हैं तो हम उस कलेक्शन को लॉन्च कर देते हैं। ऐसा ही एक कलेक्शन है रागा हिना कलेक्शन, जो लॉन्च होने पर काफी सफल रहा है।

उसी प्रकार हम इस क्षेत्र में स्थानीय रूप से संवाद स्थापित करते हैं और विज्ञापन करते हैं। अन्य थीम अरब स्प्रिंग पर आधारित था जिसकी टैग लाइन थी, “इट इस माय टाइम”, जो स्थानीय लोगों के लिए काफी प्रासंगिक हुई थी। एक और घड़ी, गार्डन ऑफ ईडन डिजाइन्स पूरी तरह से बिक गई थी।

घड़ियों का रागा रेंज मध्य पूर्व क्षेत्र में काफी प्रसिद्ध है। ऐसा क्यों है बता सकते हैं?
सनग्लास, इयरिंग्स तथा हार की तरह ही रागा एक दूसरा ऐक्सेसरीज है, जो महिलाओं को अभिव्यक्त करने का एक मौका प्रदान करता है। यह कलेक्शन जितना अनोखा है उतना ही यह कामुक, आधुनिक तथा स्त्रैण है और हर वर्ष इसकी नई थीम होती है। वैश्विक रूप से महिलाओं की घड़ियां पुरुषों के मुकाबले छोटे आकार की होती है, पर टाइटन ने एक विशेष ब्रांड की शुरुआत की जो केवल महिलाओं के लिए थी।

इस क्षेत्र में किस टाइटन घड़ी की सबसे अधिक बिक्री हो रही है और इसकी लोकप्रियता के क्या कारण है?
कोई विशेष घड़ी मॉडल नहीं है जो यहां सबसे अधिक लोकप्रिय हो। हमारे पास एज है जो दुनिया की सबसे छोटी, सिर्फ 3.6 मिमी मोटाई वाली घड़ी है और इसने पिछले 15 वर्षों में काफी अच्छा किया है। हमारे डिजाइनर्स ने एज के लिए एक स्केलेटल लुक का विकास किया, जिसने इसे और भी हल्का बना दिया और इसे लगातार दो वर्षों तक रेड डॉट डिजाइन अवार्ड, द इंटरनेशनल प्रॉडक्ट तथा कम्युनिकेशन डिजाइन प्राइज से नवाजा गया।

हमने टाइटेनियम में भी एक पतली घड़ी का निर्माण किया, इस पदार्थ के साथ काम करना कठिन होता है। यह एक “उच्च-तकनीकी वाला स्व-ऊर्जा प्रेरित” (HTSE) घड़ी है जो बिना बैटरी से चलती है। इस मॉडल को चार्ज होने के लिए सूर्य प्रकाश या कमरे की रोशनी की जरूरत होती है। HTSE, रागा तथा ऑटोमेटिक्स हमारी सबसे अधिक बिकने वाली घड़ी है।

यहां टाइटन की ‘युवा तथा बच्चे’ श्रेणियों की घड़ियां कितना चल रही हैं?
हमारा फास्ट्रैक ब्रांड 18-24 वर्ष की आयु के युवाओं के लिए है, जो इस सेग्मेंट में एक बड़ा ब्रांड बन चुका है। फेसबुक पर फास्ट्रैक के लगभग 80 लाख फॉलोअर्स हैं। मध्य पूर्व में यह अच्छा कर रहा है और जल्द ही हम इसे अन्य अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भी उतारने की योजना बना रहे हैं। जूप, 4-7 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए तैयार ब्रांड है। यही वह समय होता है जब वे समय देखना सीखते हैं और हमारा मानना है, यही सही उम्र है जब हम उन्हें अपने ब्रांड से परिचय करवाएं ताकि वे आने वाले समय में हमारे साथ बने रहें।

टाटा समूह की पूर्वी अफ्रीका में एक मजबूत मौजूदगी है। क्या टाइटन वहां टाटा के ग्राहकों की वफादारी को भुनाएगा?
निश्चित रूप से, हम टाटा ही हिस्सेदारी का फायदा उठाना चाहेंगे, जो न केवल पूर्वी अफ्रीका में, बल्कि इस पूरे महादेश में मजबूत स्थिति में है। पर हिस्सेदारी का मूल्यांकन करना और व्यवसाय को वैज्ञानिक तरीके से आगे बढ़ाना अहम है। केन्या में हमारी पहले से मौजूदगी है, जो पूर्वी अफ्रीका का द्वार है।

क्या टाइटन के फ्यूचर पोर्टफोलियों में कोई ‘स्मार्ट’ घड़ी की योजना है?
हां हमारा यही मानना है।

यह आलेख मध्य पूर्व तथा उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र में टाटा समूह के परिचालनों पर विशेष रिपोर्ट का एक हिस्सा है, जो टाटा रिव्यू के जुलाई 2015 अंक में प्रकाशित है:
टाटा संस: एक समृद्धिदायी संबंध
टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस: 'निवेशों की वृद्धि हमारे लिए लाभकारी है'
जगुआर लैंड रोवर : 'हमारे प्रतिद्वंद्वी हमसे ईर्ष्या करते हैं'
इंटरनैशनल शिपिंग तथा लॉजिस्टिक्स: 'परिसंपत्ति प्रकाश हमारे पक्ष में रहा है'
टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज: एक लैंगिक विश्लेषण
वोल्टास: 'हमारी प्राथमिक संपत्ति हमारी बौद्धिक पूंजी है'
टाटा कम्युनिकेशंस: 'हमारी एक व्यापक पहुंच'
टाटा स्टील: 'खाड़ी क्षेत्र हमारे लिए एक अहम क्षेत्रीय बाजार है'
ताज दुबई: अरेबियन रिट्रीट
टाटा मोटर्स: 'इस क्षेत्र में अपार संभावनाएं'
टाटा ग्लोबल बेवरिजेस: 'हमारा लक्ष्य आक्रामक विकास'