विरासत

19वीं सदी के उत्तरार्ध में जमशेदजी टाटा द्वारा स्थापित टाटा आज भारत के सबसे विशाल और सबसे सम्मानित कारोबार संगठनों में से एक बन चुका है। इसका श्रेय जाता है उसकी उद्यमशील दूरदृष्टि, मुनाफ़े से पहले लोगों को रखने के अपने आर्दश के प्रति उसकी प्रतिबद्धता, और विपरीत परिस्थितियों का सामना करने का धैर्य।

यह एक ऐसे कारोबार घराने की कहानी है जिसने राष्ट्र के लिए समृद्धि पैदा की। यह संघर्ष, घबराहट, साहस एवं उपलब्धि की एक‍ कहानी है। यह टाटा अग्रणियों की कहानी है।

टाटा के कई वर्षों के विकास पर एक नजर।

टाटा समूह का फोकस नवीन उत्‍पाद एवं सेवाएं डिलीवर करना है, ने अपने नाम कई प्रथम एवं शीर्ष रैंकिंग को जोड़ा है

टाटा सेंट्रल आर्काइव्ज़ भविष्य की पीढ़ियों के लिए टाटा के समृद्ध इतिहास के संरक्षण के लिए उत्‍तरदायी है। यह सूचना, पत्राचार, फोटोग्राफ, पुरस्कार, ट्राफी, पदक, प्रशंसा पत्र, पेंटिंग्‍स, वीडियो एवं ऑडियो क्लिप आदि का विशाल संग्रह है।