सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट तथा सहयोगी ट्रस्ट

समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा के ज्येष्ठ पुत्र सर दोराबजी टाटा द्वारा 1932 में स्थापित, यह सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट तथा इसके सहयोगी ट्रस्ट भारत के सबसे पुराने तथा विशाल कल्याणकारी फाउंडेशनों में से हैं। ये ट्रस्ट छात्रों तथा आर्थिक रूप से अक्षम मरीजों के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराते हैं, संस्थाओं को आर्थिक सहयोग प्रदान करते हैं तथा देश के गैर-सरकारी संगठनों को आर्थिक सहयोग उपलब्ध कराते हैं। रचनात्मक परोपकार करने की उनकी दृष्टि, एक विकसित राष्ट्र की तेज़ी से बढ़ रही ज़रूरतों के प्रति संवेदनशील रही है और वे जिन कार्यक्रमों व परियोजनाओं को सहायता पहुंचाते हैं, समकालीन तौर पर वे प्रासंगिक हैँ।

सहयोगी ट्रस्ट प्राथमिक रूप से अपेक्षाकृत छोटे ट्रस्ट हैं; जिनमें से कुछ विशेष उद्देश्य से कार्य करते हैं, तथा शेष अन्य विस्तृत आधार पर वित्तीय सहायताएं उपलब्ध कराते हैं। सहयोगी ट्रस्ट हैं जेएन टाटा एनडाउमेंट, जेआरडी टाटा ट्रस्ट, जमशेदजी टाटा ट्रस्ट, जेआरडी तथा थेल्मा जे टाटा ट्रस्ट, टाटा एजुकेशन ट्रस्ट, टाटा सोशल वेलफेयर ट्रस्ट, आरडी टाटा ट्रस्ट तथा लेडी टाटा मेमोरियल ट्रस्ट। और अधिक पढ़ें